कारोबार में नुकसान के चलते लगाई फांसी

भागलपुर (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) | लॉकडाउन लागू होने के बाद लोगों के धंधे-रोजगार खत्म हो जाने से लोगों के सामने खाने-पीने का संकट पैदा हो गया है. यहाँ तक कि लॉकडाउन का असर लोगों के कारोबार पर पड़ने लगा है. जिसके चलते लगातार होते घाटे से कारोबारी मानसिक तनाव से गुजर रहे हैं और आत्महत्या जैसे खौफनाक कदम उठा रहे हैं. ऐसी ही एक घटना तिलकामांझी थाना क्षेत्र के मुंदीचक मोहल्ला से सामने आ रही है. घटना के अनुसार लॉकडाउन के दौरान होने वाले घाटे से परेशान होकर कारोबारी रूपेश साह ने ख़ुदकुशी कर ली.

इस घटना के बारे में मृतक की पत्नी से मिली जानकारी के अनुसार, कारोबारी रूपेश साह ने बच्चों के साथ बैठकर खाना खाया और खाना खाने के बाद वह अपने कमरे में सोने के लिए चले गए. रात में जब अचानक से पत्नी की आँख खुली तो देखा कि वह बेड पर नहीं हैं. इसके बाद जब पत्नी ने दूसरे कमरे में जाकर देखा तो वह फांसी के फंदे पर लटके हुए मिले. परिजनों की चीख पुकार सुनकर पडोसी पहुंचे और पुलिस को घटना की सूचना दी गयी. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को नीचे उतारकर कब्जे में ले लिया और जांच शुरू कर दी. 

मृतक के परिजनों ने बताया कि रूपेश की ई-रिक्शा और पार्ट्स की दुकान थी. लॉकडाउन से ठीक पहले दुकान का काम ठीक चल रहा था, लेकिन लॉकडाउन घोषित होने के बाद से दुकान बंद होने के चलते उनकी आर्थिक स्थिति खराब होने लगी और उन पर कर्ज का दबाव बढ़ने लगा. उनको घर के खर्च और बच्चों की पढ़ाई की चिंता सताने लगी थी इसके चलते वह मानसिक तनाव में रहने लगे थे. रूपेश साह की माँ का भी 6 महीने पहले ही निधन हुआ था.