Big NewsPatnaफीचर

सभी की राय से चौथे कृषि रोडमैप पर होगा अंतिम निर्णय – नीतीश कुमार

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राजधानी पटना के बापू सभागार (Bapu Auditorium of Patna) में किसान समागम का उद्घाटन हुआ. मंगलवार को चतुर्थ कृषि रोड मैप (Fourth Agriculture Road Map) के सूत्रण के लिए आयोजित किसान समागम (Kisan Samagam) का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दीप जलाकर किया.

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने कृषि रोडमैप के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि पहले कृषि रोडमैप पर 2008 में काम शुरु हुआ जो चार साल तक चला. उसके बाद दूसरे कृषि रोडमैप के आधार पर 2012- 2017 तक 5 साल काम हुआ. फिर तीसरे कृषि रोडमैप पर 2017 में काम शुरू हुआ जो इस साल मार्च तक चलेगा. अब चौथे कृषि रोडमैप की बारी है.

उन्होंने कहा कि राज्य में कृषि के क्षेत्र में काफी काम हुआ है. आज के इस किसान समागम में हमने किसानों के सुझाव सुने हैं. उनकी बातों को सुनकर मुझे काफी खुशी हुई है. हम तो शुरु से चाहते हैं कि राज्य में कृषि का विकास हो.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले यहां फसलों का उत्पादन काफी कम होता था लेकिन अब हर चीज का उत्पादन बढ़ा है. बिहार में मक्का का उत्पादन प्रति हेक्टेयर 27.39 क्विंटल से बढ़कर 52.36 क्विंटल हो गया है. गेहूं का उत्पादन प्रति हेक्टेयर 23.25 क्विंटल से बढ़कर 30. 78 क्विंटल हो गया है. इसी तरह धान का उत्पादन प्रति हेक्टेयर 12.37 क्विंटल से बढ़कर 24.96 क्विंटल हो गया है.

मछली उत्पादन में हुई है काफी वृद्धि

उन्होंने बताया कि राज्य में दूध, सब्जी और मछली का उत्पादन भी काफी बढ़ा है. पहले जहां सिर्फ 2.88 लाख मीट्रिक टन मत्स्य उत्पादन होता था, जो कृषि रोड मैप पर काम होने के बाद अब उत्पादन 7.62 लाख मीट्रिक टन हो गया है. उन्होंने कहा कि इसे बढ़ाकर 8 लाख मीट्रिक टन करना है.

किसानों के हित में हो रहे कई तरह के काम

उन्होंने कहा कि किसानों के हित में कई तरह के काम किए जा रहे हैं. हमने स्वयं सहायता समूह का गठन कराया और जीविका दीदी नामकरण किया. जीविका दीदियां कृषि, पशुपालन सहित अन्य जीविकोपार्जन के कार्य बेहतर ढंग से कर रही हैं. कई अन्य क्षेत्रों में भी जीविका की दीदियां अच्छा काम कर रही हैं. महिलाएं आगे बढ़ें, इसको लेकर हमलोगों ने शुरु से प्रयास किया हैं. पहले सिर्फ पुरुष काम करते थे और महिलाएं घर में खाना बनाती थीं. महिलाओं का विशेष महत्व है. महिलाएं आगे बढ़ेंगी तो परिवार आगे बढ़ेगा. आज 1.30 करोड़ महिलाएं जीविका समूह से जुड़ी हुई हैं. 10 लाख से अधिक स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जा चुका है.

सभी की राय से चौथे कृषि रोडमैप पर होगा अंतिम निर्णय

उन्होंने आगे कहा कि बिहार की 75 प्रतिशत आबादी कृषि पर निर्भर है. पहले के तीन कृषि रोड मैप में जो लक्ष्य रखे गए हैं उस पर काफी काम किए गए हैं. कृषि रोडमैप के कारण कृषि के क्षेत्र में काफी विस्तार हो रहा है. चौथे कृषि रोडमैप तैयार करने को लेकर काफी चर्चा हुई है. कई लोगों ने भी आज अपनी राय रखी है. सभी लोगों से अपील है कि वे लोग अपनी राय लिखकर भी दे दें ताकि सभी चीजों को ठीक ढंग से देख लिया जाएगा और उसके बाद फाइनल प्रारूप तैयार होगा. सभी की राय से चौथे कृषि रोडमैप पर अंतिम निर्णय लिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें| पूर्व सांसद को कोर्ट ने सजा से किया बरी, नीतीश के खिलाफ दिया था बयान

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए हमलोग लगातार प्रयासरत हैं. हमलोग चाहते हैं कि देश का हर आदमी बिहार में उत्पादित कोई न कोई चीज खाये. पिछले कृषि रोडमैप को तैयार करने के समय भी सभी लोगों से राय ली गयी थी.

मुफ्त में बिजली की मांग नहीं

उन्होंने कहा कि हमलोग महंगी बिजली खरीदकर किसानों को सस्ते दर पर बिजली देते हैं. बिहार में मामूली दर पर उपभोक्ताओं को बिजली उपलब्ध कराया जा रही है. मुफ्त में बिजली की मांग नहीं करनी चाहिए. बिजली का सदुपयोग करना चाहिए. इसका दुरुपयोग नहीं करना चाहिए. घरेलू कार्य के अलावे कृषि कार्य के लिए भी बिजली दी जा रही है.

हर खेत तक पानी पहुंचाने के लिए काम

उन्होंने कहा कि सात निश्चय-2 के अंतर्गत हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचाने के लिए काम किया जा रहा है. उत्तर बिहार में हमेशा बाढ़ की स्थिति पैदा होती है. इसकी रोकथाम को लेकर नेपाल मदद नहीं कर रहा है. इसके समाधान को लेकर काम किया जा रहा है. हमलोगों का मकसद है कि फसलों का उत्पादन बढ़े और साथ ही किसानों की आमदनी भी बढ़े. बाढ़ एवं सुखाड़ की स्थिति में प्रभावित सभी लोगों की हमलोग मदद करते हैं. जिनके पास जमीन हैं सिर्फ उन्हीं को नहीं बल्कि कृषि कार्य से संबद्ध सभी लोगों की मदद करते हैं.

60 प्रतिशत हत्याएं सिर्फ जमीन विवाद के कारण

उन्होंने कहा कि जमीन को लेकर परिवार में तथा समाज में आपसी झगड़ा नहीं होना चाहिए। 60 प्रतिशत हत्याएं सिर्फ जमीन विवाद के कारण होती है. भूमि सर्वेक्षण का काम चल रहा है. हमलोग चाहते हैं कि यह काम जल्द से जल्द पूरा हो. हमलोग आपस में झगड़ा न करें और समाज में भाईचारे का माहौल रखें.

नीतीश ने कहा कि जब तक हम हैं तब तक किसानों के हित एवं उत्थान के लिए काम करते रहेंगे. हमारा परिवार भी किसान रहा है. बचपन से हम भी खेती को देखते रहे हैं और उसके बारे में जानते हैं. किसानों के विकास के लिए क्या-क्या किया जाना चाहिए इसपर हमलोग काम कर रहे हैं. मार्च तक कृषि रोडमैप बनकर तैयार हो जायेगा.

राष्ट्रपति करेंगी चौथे कृषि रोडमैप का शुभारंभ

पिछले बार की तरह ही हमलोग राष्ट्रपति को बुलाकर चौथे कृषि रोडमैप का शुभारंभ करायेंगे. आजकल नई टेक्नोलॉजी लोग सदुपयोग कम बल्कि दुरुपयोग ज्यादा करते हैं. पहले क्या स्थिति थी अब बदलाव आया है, इसे भूलियेगा मत. बिहार के विकास को लेकर हमलोग काम कर बिहार का और विकास करेंगे. बिहार आगे बढ़ेगा तभी देश आगे बढ़ेगा.

(इनपुट-विज्ञप्ति)