हड़ताली शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग का लुभावना लालीपाप

पटना ( TBN रिपोर्ट) :- बिहार के हड़ताली शिक्षकों के लिए एक राहत भरी खबर राजधानी पटना से आ रही है, खबर के अनुसार प्राथमिक शिक्षा निदेशक रणजीत कुमार सिंह ने हड़ताल के दौरान निलंबित शिक्षकों को योगदान करने का मौका दिया है.

इसकी जानकारी देते हुए रंजीत कुमार ने कहा कि, “सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है जो भी हड़ताली शिक्षक योगदान करना चाहते हैं वह डीईओ, बीईओ ऑफिस में योगदान दे सकते हैं. जिन शिक्षकों को सस्पेंड किया गया है. उनके प्रति नरमी बरती जाएगी. शिक्षकों के वेतन बढ़ोतरी को लेकर कोई बात नहीं हुई है. अगर तीन माह तक हड़ताली शिक्षक अगर योगदान नहीं करते हैं उनकी सेवा स्वत: समाप्त हो जाएगा. उनको योगदान का मौका नहीं मिलेगा. यह भी कहा गया है कि संघ की लड़ाई से शिक्षक बचे. क्योंकि इस लड़ाई में बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है. फिलहाल हड़ताली शिक्षकों से सरकार कोई बात करने वाली नहीं है”.

बिहार सरकार की ओर से हड़ताली शिक्षकों की मांगों को लेकर और लिए जाने वाले फैसले को लेकर 24 अप्रैल को शिक्षा विभाग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करने वाला है इसको लेकर 22 अप्रैल को माध्यमिक शिक्षा विभाग के निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी और जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को लेटर लिखा था. लेटर में लिखा गया है कि आप को अवगत कराया जाता है कि बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति एवं माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक हड़ताल पर है. इसको लेकर 24 अप्रैल को वीडियो कॉनफ्रेंसिंग में उपस्थित होना सभी सुनिश्चित करें.

बता दें बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के लगभग चार लाख नियोजित शिक्षक समान काम, समान वेतन के साथ सात सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं. हड़ताल ख़त्म न करने की जिद पर अड़े हुए शिक्षकों के सामने अब भूखमरी जैसी समस्या आ गयी है. लेकिन अब भी शिक्षक हड़ताल को जारी रखे हुए हैं और हड़ताली शिक्षक पुराने शिक्षकों की तरह वेतनमान की मांग कर रहे हैं.