गुरु गोबिंद सिंह के चरणों में चढ़ाया हीरों का हार और सोने की चादर

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| प्रकाश उत्सव के इस अवसर पर पटना साहिब स्थित तख्त श्री हरमंदिर जी पटना साहिब गुरुद्वारा में एक श्रद्धालु ने 1300 हीरे और जवाहरात जड़े पांच फीट लंबे सोने का हार और सोने का ही बना पलंग अर्पित किया है. इसके साथ ही सोने की कृपाण सोने की कारीगरी वाली रजाई श्री साहब वस्त्र रूमाला साहिब चंदोय समेत करोड़ों रुपए का तोहफा भेंट किया।

10वें सिख गुरु गोविंद सिंह जी का 355वें ‘प्रकाशोत्सव’ (355th ‘Prakashotsava’ of the 10th Sikh Guru Govind Singh Ji) 1 जनवरी से शुरू हो गया है. यह उत्सव 15 जनवरी तक चलेगा.

जालंधर के करतारपुर से आए डॉ गुरविंदर सिंह सामरा नामक इस श्रद्धालु ने हार अर्पित कर कहा कि सरवंश दानी गुरु महाराज के बलिदानों के कारण आज हम सुरक्षित हैं. अर्पित किए गए इस हार की कीमत लाखों में बताई जा रही है. 1300 हीरे और जवाहरात जड़े पांच फीट लंबे सोने के हार और सोने का ही बना पलंग दान कर दिया.

रविवार को डॉ. गुरविंदर सिंह सरनातख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब के जत्थेदार ज्ञानी रंजीत सिंह गौहर मसकीन, पंच प्यारों और तख्त श्री हरिमंदिर प्रबंधक कमेटी के पदाधिकारियों की मौजूदगी में भेंट की यह रस्म पूरी की गई.

यह भी पढ़ें| नए वैरिएन्ट ओमिक्रॉन के असामान्य लक्षण

सामरा ने कहा कि सरवंश दानी दशमेश पिता ने सिख धर्म को बचाने के लिये अपने चार पुत्रों की कुर्बानी दे दी थी. उनके बलिदान के बाद आज हम सभी सुरक्षित हैं. ऐसे सरवंश दानी गुरु महाराज के चरणों में अपनी श्रद्धा व्यक्त करते हुए उन्हें हीरे का हार भेंट करता हूं. इससे पहले भी गुरविंदर सिंह सामरा गुरु महाराज के लिए करोड़ों का हीरा जड़ित मुकुट भेंट कर चुके हैं.

जालंधर में एक अस्‍पताल चलाने वाले सामरा ने इससे पहले करोड़ों रुपए की कीमत वाला सोने का बना पलंग तख्‍त साहिब को दान किया था. इस बार भी करोड़ों की भेंट देने के बावजूद उन्होंने इसकी सही कीमत बताने से मना कर दिया.

बता दें कि सिख धर्म के 9वें और दसवें गुरुओं का प्रकाशपर्व इस बार एक साथ मनाया जा रहा है. गुरविंदर सिंह गुरु श्री तेगबहादुर के 400वें और गुरु गोबिंद सिंह के 355वें प्रकाशपर्व के आयोजन से पहले यह भेंट दिया है.