दो महीनों से कलमबंद हड़ताल पर हैं इस कॉलेज के कर्मी व शिक्षक

बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट)| बाढ़ थाना क्षेत्र स्थित सैयद निहाल अहसन इवनिंग कॉलेज के शिक्षक और कर्मचारी पिछले दो महीनों से अपनी मांगों को लेकर कलम बंद हड़ताल पर है. इन सभी कर्मचारियों को वेतन नहीं मिला है. इसी को लेकर इनके द्वारा यह हड़ताल किया गया है.

सोमवार सुबह जब कर्मचारी और शिक्षक कॉलेज पहुंचे तो वहां गेट पर ताला लगा हुआ था. इनकी माने तो कॉलेज के मैनेजमेंट ने उन्हें कॉलेज में आने से रोकने के उद्देश्य से मेन गेट पर ताला लगवाया था ताकि वे अंदर न आ सके और अपनी मांगों के लिए आवाज न उठायें.

कलम बंद हड़ताल पर गए इन कर्मचारियों व शिक्षकों ने दी बिहार नाउ को बताया कि उन्हें कई महीनों से वेतन नहीं दिया जा रहा है. जबकि सरकार का आदेश है कि कॉलेज के कुल आय का 70 प्रतिशत भाग स्टाफ व शिक्षकों में वेतन के रूप में बांट देना है. परंतु कॉलेज के मैनेजमेंट ने अभी तक यह राशि उन्हें नहीं दी है. हड़तालकर्मियों के अनुसार कॉलेज मैनेजमेंट की मंशा है कि उन्हें वेतन न दिया जाए और बिना वेतन उनसे काम करवाया जाए.

यह भी पढ़ें| आर्यन खान को नहीं मिली जमानत, 7 अक्टूबर तक हिरासत में

हड़तालकर्मियों ने बताया कि इस संदर्भ में शिक्षक एवं कर्मचारी का प्रतिनिधिमंडल कॉलेज के मैनेजमेंट से बात करने की कोशिश की परंतु मैनेजमेंट ने उनकी बातों को अनसुना कर दिया.

हड़ताल में शामिल शिक्षक प्रतिनिधि ने बताया कि इस बावत सरकार और बाढ़ के एसडीएम को ज्ञापन दिया जा चुका है. इसके बावजूद अभी तक वेतन भुगतान के बारे में कोई कार्यवाई नहीं की गई है. हड़तालकर्मियों के अनुसार उनका परिवार वेतन न मिलने की दशा में भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं.

फिलहाल कॉलेज के शिक्षक और कर्मचारी कलमबंद हड़ताल पर तो चले गए हैं लेकिन कॉलेज के मेन गेट पर ताला लगाकर यहां पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट्स के भविष्य से खिलवाड़ करना किसी भी रूप में समाज को स्वीकार नहीं होगा. साथ ही, वेतन के अभाव में हड़तालकर्मी अपना जीवन कैसे गुजर कर पाएंगे, यह एक बड़ा सवाल है.