सिविल सर्जन सस्पेंड, लापरवाही बरतने का आरोप

सीवान (TBN रिपोर्ट) :- कोरोना को लेकर बिहार सरकार बिलकुल भी लापरवाही बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है. बता दें हाल ही में गोपालगंज में 4 सरकारी कर्मचारियों के ड्यूटी से गायब मिलने पर जिलाधिकारी द्वारा कर्मियों पर एफआईआर दर्ज कर ली गयी थी. गोपालगंज में एक और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद से जिला प्रशासन ने सख्ती बरतते हुए यह कानूनी कार्यवाही की थी. ऐसा ही एक ताज़ा मामला बिहार के सीवान जिले से सामने आया है. जिसमे बड़ी लापरवाही बरतने के कारण स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सीवान के सिविल सर्जन को निलंबित कर दिया है.  

मिली जानकारी के अनुसार 25 मार्च को सिविल सर्जन डॉ अशेष कुमार ने जिले के सभी चिकित्सा पदाधिकारियों को आदेश जारी कर कहा था कि “सीवान जिला के सभी प्रखंडों के झोला छाप चिकित्सकों को चिन्हित कर सूची दे ताकि उन्हें कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के लिए प्रशिक्षण दिया जा सके”. सिविल सर्जन ने इसके लिए सरकार से कोई अनुमति नहीं ली थी.

सिविल सर्जन डॉ अशेष कुमार के इस आदेश के लेटर को सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद स्वास्थ्य विभाग की काफी आलोचना भी  हुई थी. इसके बाद सिविल सर्जन के खिलाफ बड़ी कानूनी कार्यवाई करते हुए इस तरह से लापरवाही बरतने के मामले में,स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव अनिल कुमार की ओर से निर्देश जारी कर सिविल सर्जन डॉक्टर अशेष कुमार को अगले आदेश तक निलंबित कर दिया है.