केंद्र सरकार ने लिया स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला

पटना / दिल्ली (TBN रिपोर्ट) |आखिर केंद्र सरकार ने लिया स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला ले ही लिया. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शर्तों के साथ लॉक डाउन के बीच फंसे हुए मजदूरों, तीर्थ यात्रियों, पर्यटकों और छात्रों सहित अन्य लोगों को जाने की मंजूरी दे दी है. इसके साथ ही केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से लोगों के लिए राहत भरी खबर  सामने आ रही है, खबर के अनुसार बिहार, राजस्थान, झारखंड, महाराष्ट्र जैसे राज्यों ने केंद्र से स्पेशल ट्रेन चलाने की अपील की जा रही थी. अपील को मानते हुए केंद्र सरकार ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए स्पेशल ट्रेन चलाने का आदेश दिया है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय की नियमित प्रेस कांफ्रेंस में घोषणा करते हुए गृह मंत्रालय ने रेलवे को फंसे हुए लोगों लिए ट्रेन चलाने की अनुमति दे दी है. गृह मंत्रालय की ओर से निर्देश जारी करते हुए सभी जेनरल मैनेजर को स्टेट चीफ सेक्रेटरीज से संपर्क कर ट्रेनें प्लान करने को कहा गया है. केरल के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी डॉ विश्वास मेहता की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक 1200 प्रवासी मजदूरों के लिए आज रात में स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी. इस ट्रेन में उड़ीसा के प्रवासी मजदूर कोच्चि स्टेशन से भुवनेश्वर पहुंचेंगे. एडिशनल चीफ सेक्रेटरी डॉ विश्वास मेहता की ओर से बताया गया कि उनके पास 5 और ट्रेनें चलाये जाने की अनुमति है, लेकिन अभी फिलहाल उनका डेस्टिनेशन तय नहीं किया गया है.

बिहार के भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने स्पेशल ट्रेन चलाये जाने के फैसले का स्वागत किया है. मजदूर दिवस पर झारखंड और उड़ीसा के श्रमिकों को बड़ी राहत मिली है. केरल से भुवनेश्वर और तेलंगना से झारखंड के लिए दो ट्रेनों की चलाने की मंजूरी मिली है. केरल के एर्नाकुलम से ओडिशा के भुवनेश्वर के लिए एक स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी. इस ट्रेन में करीब 1200 मजदूरों को बैठने की अनुमति होगी. ओडिशा सरकार की अपील के बाद रेल मंत्रालय ने इस स्पेशल ट्रेन को चलाने की अनुमति दी है.

बता दें लोगों को बापस बिहार में लाने के मुद्दे को लेकर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी रेल चलाने की अपील की थी. सभी लोगों की समस्या को देखते  केंद्रीय गृह मंत्रालय रेल चलाने का निर्णय लिया है.