बिहार – 11880 पदों पर फंसी बहाली

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) | कोरोना महामारी ने जन-जीवन को बहुत प्रभावित किया है. कोरोना के चलते लोगों के पूर्व निर्धारित कार्य अधूरे रह गए. वहीँ सरकार की विभिन्न योजनायें, परीक्षार्थियों के परीक्षाफल, यहाँ तक कि सरकारी नौकरी की आस में लगे लोगों की उम्मीदों पर भी कोरोना का प्रभाव पडा है.

इसी क्रम में बिहार में कोरोना के चलते पुलिस में सिपाही की बहाली की सारी गतिविधियां फिलहाल के लिए रुकी पड़ी हैं. लॉक डाउन के चलते कॉपियों की जांच पूरी नहीं सकी है. इससे प्रतीत होता है लॉकडाउन खुलने के बाद भी मई के महीने में शारीरिक परीक्षा शुरू कर पाना संभव नहीं लग रहा है.  लॉकडाउन खत्म होने के बाद ही चयन पर्षद रिजल्ट जारी करने और शारीरिक परीक्षा आयोजित करने के सम्बन्ध में निर्णय लेगा.

केन्द्रीय चयन पर्षद (सिपाही भर्ती) द्वारा आयोजित सिपाही बहाली की लिखित परीक्षा में लगभग 11 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे. दो चरणों में हुई इस लिखित परीक्षा का परिणाम अभी जारी नहीं हुआ है. इस बारे में  चयन  पर्षद के अनुसार लॉकडाउन के चलते कॉपियों की जांच का कार्य फिलहाल के लिए बीच में ही रोकना पड़ा है. ऐसे में लॉकडाउन के समाप्त होने के बाद जब सारी गतिविधियां शुरू हो जाएगी तब कॉपियों की जांच का कार्य प्रारम्भ होगा और लिखित परीक्षा का परीक्षाफल आना सम्भव हो पायेगा.

चयन पर्षद ने लिखित परीक्षा के बाद शारीरिक परीक्षा के लिए अपनी तैयारियां शुरू कर दी थी. गर्दनीबाग स्थित स्टेडियम की बुकिंग 15 अप्रैल से की गई थी लेकिन लॉक डाउन के चलते इसे एक महीने के लिए बढ़ा दिया गया. अब कोरोना के चलते लॉक डाउन की वहज से यह 15 मई से भी संभव नहीं लग रहा. पर्षद के मुताबिक लिखित परीक्षा का परिणाम आने के बाद सफल अभ्यर्थियों को शारीरिक परीक्षा में शामिल होने के लिए कम से कम 21 दिनों का वक्त दिया जाता है. ऐसे में मई में भी शारीरिक परीक्षा आयोजित कराना असंभव सा लग रहा है.

बता दें बिहार पुलिस में सिपाही के 11880 पदों पर बहाली की प्रक्रिया चल रही है. इसके तहत पहले लिखित परीक्षा हुई. इसके आधार पर शारीरिक परीक्षा के लिए पद के मुकाबले पांच गुना अभ्यर्थियों का चयन होगा. शारीरिक परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों की मेधा सूची तैयार की जाएगी. शारीरिक दक्षता परीक्षा के तहत अभ्यर्थियों को दौड़, ऊंची कूद और गोला फेंक में भाग लेना होगा. फिलहाल लॉकडाउन के बाद हालात सामान्य होने के पश्चात ही सभी रुकी हुई प्रक्रिया प्रारम्भ हो पाएंगी.