क्वारंटाइन सेंटर में युवक ने की ख़ुदकुशी

गया (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) | बिहार में क्वारंटाइन केंद्रों की कुव्यवस्था से परेशान वहां रहने वाले लोगों के हंगामे करने के अनगिनत मामले सामने आ चुके है. जिनको लेकर विपक्ष राज्य सरकार को लगातार निशाना बना रहा है. लेकिन क्वारंटाइन सेंटर में आत्महत्या का एक ताजा मामला  बोधगया से सामने आया है. क्वारंटाइन सेंटर में इस तरह की घटना घटित होने से बिहार सरकार के क्वारंटाइन केंद्रों में सुरक्षा इंतज़ामों के दावों की पोल खुलती सी नज़र आ रही है.

मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को बोधगया के निगमा मोनेस्ट्री क्वारंटाइन सेंटर में विक्की शर्मा नाम के एक व्यक्ति ने छत से कूदकर खुदकुशी कर ली. युवक के बारे में बताया जा रहा है कि वो गोपालगंज के नगर थाना के छपिया गांव का रहने वाला था और 3 जून को सऊदी अरब से बोधगया पंहुचा था. इस घटना के बाद क्वारंटाइन सेंटर में हलचल का माहौल हो गया. 

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन युवक को सही समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण उसकी मौके पर ही मौत चुकी थी. मृतक युवक विक्की शर्मा 3 जून को ही सऊदी अरब से गया एयरपोर्ट पहुंचा था, जिसके बाद उसको बोधगया के निगमा बौद्ध मठ के 4 नंबर ब्लॉक के दूसरे तले पर क्वारंटाइन किया गया था जहाँ उसका इलाज किया जा रहा था.

क्वारंटाइन सेंटर में रहे सीवान के सुरेश प्रसाद, मोतिहारी के नवी अली, दरभंगा के दिलीप कुमार झा, सीवान के अमिताभ ने बताया कि विक्की क्वारंटाइन सेंटर में आने के बाद से ही  मानसिक तनाव में था. वह सउदी में काम तलाशने के लिए गया था लेकिन इस दौरान वहां लॉकडाउन होने की वहज से वह तीन महीने तक वहीं फंसा गया था. ऐसे में वह लम्बे समय से मानसिक तनाव को झेल रहा था जिसके चलते उसने  क्वारंटाइन सेंटर के तीसरे तल्ले से कूदकर ख़ुदकुशी कर ली.