Big Newsदेश- दुनिया

पाकिस्तान सरकार ‘बिजली कटौती’ पर ‘विदेशी हस्तक्षेप’ की जांच करेगी

इस्लामाबाद (TBN – The Bihar Now डेस्क)| लंबे समय से बिजली कटौती (ong power outages in Pakistan) के बीच पाकिस्तान के ऊर्जा मंत्री खुर्रम दस्तगीर खान (Pakistan Power Minister Khurram Dastgir Khan) ने कहा है कि सरकार राष्ट्रीय ग्रिड की बैक-टू-बैक विफलताओं की जांच करेगी. जियो न्यूज (Geo News) के अनुसार, पाकिस्तान के अंधेरे में डूबने के 24 घंटे बाद एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए पाकिस्तान सरकार ने विद्युत संकट के लिए ‘विदेशी हस्तक्षेप’ की संभावना का संकेत दिया है. हालांकि खान ने मंगलवार को कहा, “इंटरनेट के माध्यम से विदेशी हस्तक्षेप की संभावना कम है.”

लेकिन जियो न्यूज ने बताया कि उन्हें ऊर्जा मंत्री ने यह कहा है कि मामले की जांच की जाएगी क्योंकि हाल ही में इस तरह की कई घटनाएं हुई हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया है, जिसकी अध्यक्षता पेट्रोलियम राज्य मंत्री मुसादिक मलिक करेंगे. जियो न्यूज ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 7:34 बजे पाकिस्तान में बिजली गुल हो गई, जिससे कराची, लाहौर, क्वेटा और इस्लामाबाद सहित कई शहरों में बिजली गुल रही.

पाकिस्तान के ऊर्जा मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, राष्ट्रीय ग्रिड की फ्रीक्वेंसी सुबह करीब 7.34 बजे गिर गई, जिससे बिजली व्यवस्था में ‘व्यापक खराबी’ आ गई. प्रेस कॉन्फ्रेंस में, ऊर्जा मंत्री खान ने एक और बुरी खबर दी कि नागरिकों को अगले 48 घंटों के लिए लोड-शेडिंग झेलनी होगी. हालांकि, उन्होंने कहा कि गुरुवार तक सिस्टम पूरी तरह से बहाल कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि पूरे पाकिस्तान में नेशनल ट्रांसमिशन एंड डिस्पैच कंपनी (National Transmission and Despatch Company) के 1,112 ग्रिड स्टेशनों को बहाल कर दिया गया है.

उन्होंने मंगलवार को कहा, “बिजली आज सुबह सवा पांच बजे पूरी तरह से बहाल हो गई.” हालांकि, कराची में स्थानीय लोगों ने दावा किया कि शहर में आपूर्ति पूरी तरह से बहाल नहीं हुई है और सरकार के बिजली बंद होने के दावे के बावजूद कई इलाकों में बिजली अब भी बंद हैं.

इसे भी पढ़ें| बेगूसराय: डाक विभाग में करोड़ों के गबन मामले में सीबीआई की छापेमारी

जियो न्यूज के अनुसार, यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस्तीफा दे देंगे क्योंकि उनके कार्यकाल के दौरान दो ब्रेकडाउन हुए हैं, दस्तगीर ने कहा कि जिन लोगों ने पिछले चार वर्षों में परियोजना में निवेश नहीं किया, उन्हें जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए. उधर प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने सोमवार को बिजली कटौती के कारण नागरिकों को हुई ‘असुविधा’ पर मंगलवार को खेद जताया.

प्रधानमंत्री ने बिजली गुल होने के कारणों का पता लगाने के साथ ही जिम्मेदारी तय करने के लिए जांच के भी आदेश दिए. “मेरी सरकार की ओर से, मैं कल बिजली कटौती के कारण हमारे नागरिकों को हुई असुविधा के लिए खेद व्यक्त करना चाहूंगा. मेरे आदेश पर, बिजली की विफलता के कारणों का पता लगाने के लिए एक जांच चल रही है. जिम्मेदारी तय की जाएगी.” “शहबाज शरीफ ने ट्वीट किया.