कोरोना की तीसरी लहर, अगले 100 दिन काफी अहम

नई दिल्‍ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| हाल में ही खत्म हुए कोरोना की दूसरी लहर के कहर को याद कर देश में लोग सिहर उठते हैं. अब इसकी तीसरी लहर की आशंका से जनता व सरकार चिंतित है.

इसके मद्देनजर सरकार ने लोगों को आगाह किया है कि देश में अगले 100 दिन बेहद अहम हैं. सरकार के मुताबिक, कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के कारण विश्व के कई देशों में हालात काफी खराब हुए हैं.

अपने देश में भी बड़ी आबादी को कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा अभी बना हुआ है. अभी देश में ‘हर्ड इम्‍यूनिटी’ का होना भी अभी काफी दूर नजर आ रही है. तीसरी लहर की आशंका पर पीएम नरेंद्र मोदी भी चिंता जता चुके हैं

इधर शुक्रवार को नीति आयोग (Niti Ayog) के सदस्‍य (हेल्‍थ) डॉ वीके पॉल (Dr V.K.Paul) ने बताया कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने हाल ही में कोरोना महामारी पर एक चेतावनी जारी की थी. यह चेतावनी विश्‍व में कोरोना के हालात को लेकर थी जिसमें कोरोना की तीसरी लहर के असर का डर साफ दिखता है.

डॉ वीके पॉल ने बताया कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के नॉर्थ और साउथ अमेरिकी क्षेत्र को छोड़ अन्‍य सभी डब्‍लूएचओ क्षेत्र में हालात अच्‍छे से खराब और बद से बदतर की तरफ बढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज दुनिया कोरोना की तीसरी लहर की ओर बढ़ रही है और यही सच है.

जानकारी के मुताबिक, नीदरलैंड में कोरोना के मामलों में 300 प्रतिशत का उछाल आया है जबकि स्‍पेन में साप्ताहिक कोविड मामलों में 64 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. अफ्रीका में 50 प्रतिशत मामलें बढ़ गए हैं. थाइलैंड में जहां लंबे समय तक कोरोना पर काबू पाया गया था, वहां भी अब कोरोना मामलों में बढ़ोतरी होने लगी है. उसी तरह अब इंडोनेशिया, बांग्‍लादेश, म्‍यांमार, मलेशिया में अचानक कोरोना मामलों में वृद्धि देखने को मिल रही है.

कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है

डॉ वीके पॉल ने कहा है कि देश में अभी कोरोना का खतरा टला नहीं है. जनता को अभी भी बहुत सतर्क रहने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि जरा-सी भी चूक लोगों के लिए महंगी पड़ सकती है. उन्होंने कहा कि देश में कोरोना की तीसरी लहर आई या नहीं, इसे जानने समझने के लिए अगले 100 दिन काफी महत्वपूर्ण होंगे.

डॉ पॉल ने आगे कहा कि अभी हम हर्ड इम्‍यूनिटी (Herd Immunity) की स्थिति में नहीं पहुंचे हैं. इस कारण देश की बड़ी आबादी पर खतरा बना हुआ है. उन्होंने कहा कि हमने कोरोना टीकाकरण के मामले में काफी प्रगति की है. स्थिति अभी काबू में है क्योंकि जिन लोगों को तीसरी लहर से सबसे ज्‍यादा खतरा है, उनमें से कम से कम 50 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण हो चुका है. इस स्थिति को हमें बनाकर रखना होगा.

दावा : तीसरी लहर आ चुका है !

इधर हैदराबाद के टॉप भौतिक विज्ञानियों में से एक डॉ विपिन श्रीवास्‍तव ने हाल में दावा किया था कि अनुमान है कि देश में 4 जुलाई को ही कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है. उनका यह दावा पिछले 15 महीनों के कोरोना संक्रमण के आंकड़ों और डेथ रेट (मृत्‍यु दर) के विश्‍लेषण पर आधारित था.

सरकार कर रही जनता को आगाह

सरकार द्वारा जनता से कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर (कोरोना सम्‍मत व्‍यवहार) रखने की लगातार अपील की जा रही है. दूसरी लहर के ठंढे पड़ने के बाद से पर्यटन स्‍थलों और हिल स्‍टेशनों पर लगातार भीड़ जुट रही है. इस पर सरकार द्वारा चिंता जताई गई है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय हमेशा कहता रहा है कि कोरोना खत्‍म नहीं हुआ है और लोगों को अभी बहुत सावधान रहने की जरूरत है.

कोरोना लहर की इंटेंसिटी ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना की कितनी भी लहर आए, लेकिन इसकी इंटेंसिटी या तीव्रता ज्यादा महत्वपूर्ण है. इंटेंसिटी या तीव्रता के आगे कोरोना की तीसरी या चौथी लहर मायने नहीं रखती है.