मेरा बेटा 3 – 4 महीने पहले कश्मीर गया था – मृतक मजदूर की मां

अररिया (TBN – The Bihar Now डेस्क)| रविवार 17 अक्टूबर को कश्मीर में हुए आतंकवादी की गोली से मरने वाले बिहारी मजदूर के परिजनों ने सरकार से मांग की है कि मृतकों के शवों को यहाँ मंगाया जाए ताकि उनका अंतिम संस्कार किया जा सके.

बता दें, कल हुए इस आतंकी हमले में अररिया जिले के दो लोगों की मौत हो गई थी जबकि तीसरा जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहा है. मरने वालों में अररिया प्रखंड के बंगामा पंचायत स्थित खेरूगंज के योगेंद्र ऋषिदेव की मौत हो गई है.

वहीं राजा ऋषि देव रानीगंज प्रखंड के बसैठी के रहने वाले थे. उनकी भी इस घटना में मौत हो गई है. साथ ही रानीगंज के मिर्जापुर का राजा ऋषि देव आतंकवादी की गोली से घायल है जिसका इलाज कश्मीर में ही चल रहा है.

तीन महीनों से बात नहीं हुई थी

खेरूगंज स्थित जोगेंद्र ऋषि देव के परिवार वालों ने बताया कि तीन चार महीने हुए हैं, वह मजदूरी करने कश्मीर गया था. वह वहां शटरिंग का काम करता था. उसकी पिछले 3 महीनों से अपने घरवालों से बात भी नहीं हुई थी. लेकिन रविवार देर शाम मिर्जापुर से उन्हें समाचार मिला कि योगेंद्र ऋषि देव की आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी है.

यह भी पढ़ें| बिहारी मजदूरों की हत्या की राजनीतिक पार्टियों ने की निंदा, सीएम नीतीश को माना जिम्मेवार

इसको लेकर उसके पूरे परिवार में कोहराम मचा हुआ है तथा ह्रदय विदारक स्थिति बनी हुई है. मृतक जोगेंद्र ऋषि देव की मां ने बताया कि उसकी पत्नी अपने मायके में है तथा योगेंद्र के तीन बच्चे हैं. उन सबों का यहां आने का इंतजार किया जा रहा है.

जोगेंद्र ऋषि देव के परिजनों की मांग है कि उसके शव को यहां मंगाया जाए ताकि यहां उसका अंतिम संस्कार किया जा सके. साथ ही उन्होंने सरकार से मुआवजे मांग की है क्योंकि इनकी स्थिति काफी दयनीय है.