क्यू॰आर॰ कोड के माध्यम से बीजों का स्रोत ट्रैकिंग का शुभारम्भ

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार द्वारा शुक्रवार को नया सचिवालय, विकास भवन, पटना स्थित कृषि विभाग के सभागार से बिहार राज्य बीज निगम के अधीन कुदरा स्थित नवनिर्मित गोदाम एवं प्रसंस्करण संयंत्र की स्थापना, बीज अभिसंस्करण हस्तक तथा वार्षिक पंचांग का लोकार्पण और क्यू॰आर॰ कोड के माध्यम से बीजों का स्रोत ट्रैकिंग का शुभारम्भ किया गया. इस अवसर पर कृषि निदेषक-सह-प्रबंध निदेषक, बिहार राज्य बीज निगम आदेष तितरमारे सहित विभागीय पदाधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित थे.

मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य के किसानों के द्वारा बीज की माँग को देखते हुए निगम के प्रसंस्करण क्षमता को बढ़ाना आवश्यक है. इसके लिए बिहार सरकार के राज्यादेश से कुदरा परिसर में कुल 6 अदद् गोदाम का निर्माण बिहार राज्य भवन निर्माण निगम लि0 द्वारा किया गया है. इन सभी 6 गोदामों के लिए प्रशासनिक स्वीकृति दिसम्बर 2013 में मिल गई थी, जिसकी कुल लागत राशि रू0 34.68 करोड़ रूपये है.

इनमें से गोदाम सं0-1 भंडारण क्षमता 800 मेट्रिक टन तथा गोदाम सं0-2 भंडारण क्षमता 1000 मेट्रिक टन का उदघाटन किया गया है. गोदाम संख्या-3 भवन निर्माण निगम द्वारा बिहार राज्य बीज निगम को हस्तांतरित किया जा चुका है. गोदाम संख्या-4 एवं 5 का निर्माण कार्य चल रहा है तथा गोदाम संख्या-6 का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है. इन सभी गोदामों का निर्माण कार्य फरवरी, 2020 तक पूरा करना था, परन्तु कोरोना के प्रभाव की वजह से कार्य में बाधा हुआ है तथा भवन निर्माण विभाग के अनुसार अक्टूबर-नवम्बर, 2020 में कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा.

मंत्री ने कहा कि इन सभी गोदामों का निर्माण कार्य पूरा होने के पश्चात् निगम के सभी इकाईयों की भंडारण क्षमता 6.72 लाख क्विंटल से बढ़कर 8.72 लाख क्विंटल हो जाएगा. साथ ही, यह भी बताना चाहते है कि गोदाम संख्या- 6 में 4 TPH क्षमता का प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित किया जाना है, जिसका टेन्डर राष्ट्रीय बीज निगम के साथ फाइनल हो चुका है तथा गोदाम संख्या- 1 एवं 2 में 8 TPH क्षमता का प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित किया जाना है, जिसका MOU भी राष्ट्रीय बीज निगम के साथ होना है। इन सभी प्रसंस्करण संयंत्र की स्थापना होने से निगम के सभी इकाईयों का प्रसंस्करण क्षमता 5.30 लाख क्विंटल प्रतिवर्ष से बढ़कर 8.30 लाख क्विंटल प्रतिवर्ष हो जायेगा.

‘‘बीज अभिसंस्करण हस्तक” किया गया है तैयार

उन्होंने कहा कि उत्पादन में बीज की महत्ता को देखते हुए राज्य के किसानों को उच्च कोटि का प्रमाणित बीज उचित दर, उचित समय तथा उचित स्थान पर मुहैया कराने की महती उद्देष्य के प्रति राज्य सरकार प्रतिबद्ध है एवं इसके लिए बिहार सरकार द्वारा बिहार राज्य बीज निगम लि0 क्रियाशील है. कृषि क्षेत्र में उत्पादकता बढाना वर्तमान समय की माँग है. अतः किसानों को बीज ससमय उपलब्ध हो सके, इसके लिए यह अति आवश्यक है कि बीजों के प्रसंस्करण का कार्य सुचारू रूप से गुणवत्तापूर्वक ससमय सम्पन्न करने के लिए बीज अभिसंस्करण हस्तक की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए ‘‘बीज अभिसंस्करण हस्तक” तैयार किया गया है, जिसमें अभिसंस्करण से संबंधित समस्त प्रक्रिया, कार्यप्रणाली एवं वार्षिक कैलेन्डर का समावेष किया गया है.

‘‘वार्षिक पंचांग” किया गया है तैयार

यह हस्तक बीज प्रसंस्करण के कार्यों को सुचारू रूप से संपादित करने में काफी सहायक एवं उपयोगी साबित होगा तथा बीज प्रसंस्करण के कार्य में पारदर्षिता के साथ-साथ गुणवत्ता भी निश्चित रूप से बढेंगी. उन्होंने कहा कि किसी भी कार्य की सफलता इस बात पर निर्भर करता है कि उसे ससमय पूरा किया जाये. बिहार राज्य बीज निगम किसानों को उच्च गुणवत्तायुक्त बीज उपलब्ध कराने जैसे महत्वपूर्ण कार्य कर रहा है. ऐसे में निगम के सभी शाखाओं यथा उत्पादन शाखा, अभिसंस्करण शाखा, विपणन शाखा, गुण नियंत्रण तथा लेखा शाखा इत्यादि का कार्य ससमय सम्पन्न होना अति आवश्यक है ताकि लाभार्थियों को ससमय बीज मुहैया हो सके. अतः निगम के दैनिक कार्यों को ससमय संगठित ढंग से निष्पादित करने के लिए एक ‘‘वार्षिक पंचांग‘‘ की आवष्यकता को ध्यान में रखते हुए ‘‘वार्षिक पंचांग” तैयार किया गया है, जिसमें निगम की सभी शाखाओं के कार्य को ससमय निष्पादित करने की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराई गई है. यह वार्षिक पंचांग निगम के सभी कार्यों को ससमय संगठित ढंग से करने के साथ-साथ निगम के कर्मियों की कार्य क्षमता विकसित करने तथा निगम के सभी व्यावसायिक एवं प्रशासनिक कार्यों को ससमय सम्पन्न करने में काफी उपयोगी साबित होगा.

QR Code के माध्यम से बीजों के स्रोत की ट्रैकिंग

डॉ प्रेम ने कहा कि बीजों के संग्रहण, प्रसंस्करण तथा विपणन इत्यादि कार्यों में पारदर्षिता लाने के लिए निगम द्वारा रबी, वर्ष 2020-21 से QR Code के माध्यम से बीजों के स्रोत ट्रैकिंग करने का निर्णय लिया गया है. बीजों के स्रोत ट्रैकिंग एवं प्रमाणीकरण हेतु QR Code के इस्तेमाल के संबंध में कृषि आयुक्त, भारत सरकार द्वारा तमाम बीज प्रमाणीकरण एजेंसियों को निदेश दिया गया था, परन्तु इसका सफल क्रियान्वयन अभी तक सिर्फ ‘‘बिहार राज्य बीज निगम लिमिटेड‘‘ के द्वारा किया गया है. प्रसंस्कृत बीजों के थैलों पर चिपकाया जाने वाला QR Code को स्कैन कर के बीज से संबंधित समस्त सूचना यथा फसलों की बुआई की तिथि, फसलों की कटाई की तिथि, ब्रीडर बीज, फाउडंेषन बीज तथा सर्टिफाईड बीज के स्रोत की जानकारी, रॉ बीज का वजन, बीज में नमी की मात्रा, बीज का प्रभेद, बीज उत्पादक का नाम एवं पता, ट्रांसपोर्टर का नाम एवं पता, इस्तेमाल किए गए रसायन की जानकारी बीजों का लॉट संख्या, बीजों के प्रसंस्करण से संबंधित जानकारी, बीजों का स्प्त्ध्थ्प्त् प्रतिवेदन, तथा बीजों के पैकिंग से संबंधित जानकारी इत्यादि कोई भी कहीं भी प्राप्त कर सकता है. ये सभी सूचनाएँ QR Code में अद्यतन होने से अगर बीज के किसी एक थैले में भी कोई कमी मिलती है अथवा उपयोगकर्ता द्वारा शिकतात किया जाता है तो उक्त थैले पर चिपकाया गया QR Code को स्कैन कर के बीज से संबंधित समस्त जानकारी प्राप्त किया जा सकता है तथा निगम द्वारा आवष्यक कार्रवाई किया जा सकता है, जिससे बीज वितरण प्रक्रिया में पारदर्षिता बढ़ेगा तथा किसानों को उच्च गुणवत्ता युक्त बीज प्राप्त हो सकेगा.

उत्कृष्ट कार्य हेतु विभाग ने किया पुरस्कृत

डॉ प्रेम ने कहा कि खरीफ-2020 में 49 हजार किसानों के बीच 3805.54 क्विंटल बीजों की होम डिलीवरी कोरोना संक्रमण काल में किया गया है. बीजों की होम डिलीवरी करने में उत्कृष्ट कार्य करने हेतु विभाग के 93 पदाधिकारी/कर्मचारी, 10 बीज वितरक/बिक्रेता तथा 03 किसान को पुरस्कृत किया गया. उन्होंने कहा कि बिहार राज्य बीज निगम लि0 द्वारा वर्ष 2020-21 उत्पादन वर्ष के अन्तर्गत राज्य में गुणवत्तापूर्ण बीज की आवश्यकता की पूर्ति हेतु ’’मिशन 4.0’’ की शुरूआत की गई है. विगत वर्ष रबी 2018-19 में रबी फसलों का संग्रहण 65888.65 क्विंटल एवं खरीफ, 2019 में संग्रहण 59493.54 क्विंटल ही हो पाया था. अतः उत्पादन में गिरावट की स्थिति को नियंत्रित कर गुणवत्तायुक्त बीजों के उत्पादन में वृद्धि करने के लिए प्रयास किया गया है, जिसके फलस्वरूप रबी, वर्ष 2019-20 में कुल संग्रहण 105594.06 क्विंटल किया गया व खरीफ 2020 में उत्पादित संग्रहित होने वाली बीज की मात्रा लगभग 105000 क्विंटल होने की उम्मीद है.

’’मिशन 4.0’’ का शुभारम्भ किया गया है

निगम द्वारा बिहार के किसानों को अधिक मात्रा में गुणवत्तायुक्त बीज उपलब्ध कराने हेतु ’’मिशन 4.0’’ का शुभारम्भ किया गया है, जिसके अन्तर्गत रबी 2020-21 से खरीफ 2021 तक विभिन्न फसलों की कुल उत्पादन क्षमता में वृद्धि कर 482430 क्विंटल बीज उत्पादन की योजना है, जिसमें मुख्यत गेहूँ 3.0 लाख क्विंटल, धान 1.25 लाख क्विंटल के साथ-साथ दलहनी फसलों के उत्पादन पर जोर दिया गया है. इसके साथ ही निगम द्वारा प्रथम बार संकर मक्का, संकर धान और सब्जी बीज उत्पादन की योजना का क्रियान्वयन किया जायेगा. “मिशन 4.0″ की उपलब्धि से निगम द्वारा लगभग 5.0 लाख अधिक कृषकों को खेती हेतु गुणवत्तायुक्त बीज उचित दर पर मुहैया कराया जा सकेगा. साथ ही ऑनलाईन आवेदन के आधार पर चयनित 2300 बीज उत्पादक किसानों को पुराने बीज उत्पादकों के साथ ही न्यूनतम आय में 20 प्रतिशत वृद्धि की योजना ’”मिशन 4.0” से साकार होगा. यह मिशन बिहार राज्य बीज निगम लि0 को किसानों के लिए और उपयोगी बनाने का सर्वोतम प्रयास सिद्ध होगा.

डॉ एन सरवण कुमार, सचिव, कृषि विभाग ने अपने सम्बोधन में कहा कि बिहार राज्य बीज निगम राज्य में फसलों के बीज प्रतिस्थापन दर को बढ़ाने में अपना सहयोग दे रहा है. कृषि विभाग के सभी योजनाओं में पारदर्षिता लाने में नई-नई तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है. इसी कड़ी में निगम द्वारा बीजों के ट्रैकिंग की व्यवस्था शुरू की गई है. उन्होंने कृषि निदेषक-सह-प्रबंध निदेषक, बिहार राज्य बीज निगम को निदेश दिया कि आने वाले दिनों में बीज गुणन प्रक्षेत्रों की सम्पूर्ण भूमि का उपयोग बीज उत्पादन के लिए किया जाये. बीज गुणन प्रक्षेत्रों में तेलहनी एवं दलहनी फसलों के बीज उत्पादन को बढ़ावा दिया जाये. साथ ही, राज्य में सीड रोलिंग प्लांट का क्रियान्वयन किया जाये.

Advertisements