सात फेरों से पहले हुआ कुछ ऐसा कि दिल के अरमां आंसुओं में बह गए

छपरा (TBN – The Bihar Now डेस्क)| दिल के अरमां आंसुओं में बह गए. एक कहावत है कि जो होनी को मंजूर होता है वही होता है. ऐसा ही एक वाकया छपरा जिला के बसतपुर गांव में हुआ जहां गुरुवार को एक मंडप से दूल्हा बिना शादी के भाग खड़ा हुआ. बाराती और जनाती में कुछ बात ऐसी बढ़ी कि दूल्हा दुल्हन को मंडप में ही छोड़कर फरार हो गया.

जी हां, छपरा जिले के बसतपुर गांव के वकील बैठा नामक एक व्यक्ति की पुत्री पिंकी की शादी होनी थी. लड़का राजन बैठा बेलौर गांव के अयोध्या बैठा का पुत्र है. दोनों के बीच शादी ठीक हुई. शादी के दिन लड़का बारात लेकर लड़की के घर पहुँच गया. लड़की वालों ने बारात का जोरशोर से स्वागत किया. समयानुसार द्वारपूजा एवं कन्या निरीक्षण के बाद शादी की रस्म अदायगी हो रही थी. इसी बीच एक घटना हो गई.

हुआ यूं कि जनवासे में बारातियों तथा उपस्थित ग्रामीणों के बीच नाच देखने को लेकर मारपीट शुरू हो गई. बात इतनी बड़ी कि दोनों पक्षों में चाकूबाजी शुरू हो गई. फिर क्या था, दोनों पक्ष एक-दूसरे के जान के प्यासे हो गए. इसी बीच लड़का/दूल्हा के दो भाइयों को चाकू लग गई जिससे वहां अफरा-तफरी मच गई.

इस अफरा-तफरी में लोग इधर-उधर भागने लगे. इधर शादी की रस्में शुरू हो चुकी थी और दूल्हा-दुल्हन को मंडप में बुलाया गया. सात फेरे शुरू होने ही वाले थे कि दूल्हे को उसके दो भाइयों को चाकू लगने की सूचना मिली. सूचना मिलते ही दूल्हा राजन दुल्हन को शादी की बीच रस्म से मंडप में छोड़कर भाग गया. दुल्हन ने अपने दूल्हा का बहुत देर तक इंतजार करती रही, लेकिन वह नहीं आया.

आप यह भी पढ़ें मूसलाधार बारिश में डूबी राजधानी, डिप्टी CM के आवासीय परिसर में भी घुसा पानी

इधर, चाकूबाजी में घायलों को जल्दी से पानापुर स्थित पीएचसी में ले जाया गया. वहां घायलों का प्राथमिक उपचार करके डॉक्टरों ने छपरा रेफ़र कर दिया. घायल युवकों का इलाज छपरा में चल रहा है. मुकेश बैठा नाम के युवक की हालत सीरियस बताई जा रही है.

इस घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय ठाणे की पुलिस मौके पर पहुंच गई तथा मामले की छानबीन शुरू कर दी.