बाढ़ कोर्ट से फरार हुए दो अपराधियों को यूपी पुलिस ने मार गिराया

वाराणसी / बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट)| पटना जिले के बाढ़ कोर्ट में पेशी के दौरान पुलिस हिरासत से फरार हुए बैंक डकैती के दो आरोपियों की यूपी पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मौत हो गई. दोनों बिहार से यूपी भाग गए थे. उत्तर प्रदेश में वाराणसी पुलिस ने सोमवार सुबह बड़ागांव इलाके में एक मुठभेड़ में दोनों को मार गिराया. पुलिस ने कहा कि क्रॉस फायरिंग में एक कांस्टेबल को गोली लगी लेकिन उसकी हालत स्थिर है.

दोनों को वाराणसी रिंग रोड पर पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया. सोमवार सुबह हुई इस घटना में मरने वाले दोनों आरोपी सगे भाई हैं. मृतकों की पहचान बिहार के समस्तीपुर निवासी रजनीश सिंह (32), उर्फ ​​बउआ और उनके छोटे भाई मनीष सिंह (29) के रूप में हुई है. क्रॉस फायरिंग में वाराणसी पुलिस का एक कांस्टेबल भी गोली लगने से घायल हो गया. अधिकारियों ने कहा कि दोनों का एक और भाई, जिसकी पहचान लल्लन (35) के रूप में हुई है, मौके से भागने में सफल रहा.

बाढ़ कोर्ट से हुए थे फरार

बता दें, दोनों 7 सितंबर 2022 को बाढ़ न्यायालय परिसर स्थित हाजत से फरार हो गए थे. मार्च 2017 में पुलिस ने समस्तीपुर निवासी तीन भाइयों को पटना के बेलछी थाना क्षेत्र के एक बैंक से दिनदहाड़े 60 लाख रुपए लूटने के मामले में गिरफ्तार किया था. उस डकैती में बैंक गार्ड योगेश्वर पासवान, सुरेश सिंह और ड्राइवर अजीत यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. तीनों पर पहले एक सब-इंस्पेक्टर, एक एएसआई की भी हत्या का आरोप था.

समस्तीपुर जिले के मोहिउद्दीननगर थाना क्षेत्र के आनंदगोलवा निवासी तीन भाइयों ललन उर्फ ​​बउआ, मनीष और रजनीश ने बैंक डकैती और हत्या की घटना को अंजाम दिया था. उस मामले में तत्कालीन पटना एसपी मनु महाराज ने आनंदगोलवा से ही तीनों को गिरफ्तार किया था. पुलिस दोनों भाइयों को पटना ले गई, जबकि तीसरे को स्थानीय पुलिस ने छोड़ दिया. उस मामले में तत्कालीन मोहिउद्दीननगर थानाध्यक्ष असगर इमाम को भी निलंबित कर दिया गया था. एक साल बाद रजनीश को सिवाना से गिरफ्तार किया गया.

इसे भी पढ़ें| बाढ़: हाजत तोड़ कोर्ट से तीन कैदी फरार, बैंक डकैती में 2017 से थे बंद

7 सितंबर 2022 को तीनों को बाढ़ राहत से कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया था. मामले की सुनवाई एडीजे-05 रवि रंजन मिश्र की अदालत में होनी थी. सुनवाई से पहले ही तीनों बदमाश रात करीब तीन बजे हाजत से सटे बाथरूम की दीवार तोड़कर फरार हो गए. इस मामले में पुलिस की भी काफी किरकिरी हुई. हालांकि तीनों भाई बिहार पुलिस की गिरफ्त में नहीं आए. इस बीच उसकी गिरफ्तारी के लिए अलग-अलग जगहों पर छापेमारी जारी रही.

करीब ढाई महीने बाद अब यूपी पुलिस ने तीन में से दो भाइयों को एनकाउंटर में मार गिराया है. पटना पुलिस ने मनीष और रजनीश दोनों की पहचान की पुष्टि की थी. वाराणसी के बड़ागांव पुलिस ने तीनों भाइयों से सरेंडर करने को कहा लेकिन उन्होंने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. इसके बाद मनीष और रजनीश पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए, जबकि ललन भागने में सफल रहा. बताया जा रहा है कि दोनों ओर से कई राउंड गोलियां चलीं.