शिक्षक द्वारा शारीरिक दंड की भयानक दास्तान; कक्षा 8 के छात्र की मौत

गया (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बुधवार को अधूरे होमवर्क के लिए अपने शिक्षक से पिटाई के बाद एक छात्र की घर वापस जाते समय स्कूल बस में मौत हो गई. घटना गया के रसलपुर इलाके में स्थित जीडी गोयनका स्कूल (GD Goenka school) स्कूल की है जहां एक शिक्षक ने चार छात्रों को सजा दी थी.

इनमें से एक छात्र कृष प्रकाश घर वापस जाते समय स्कूल बस में बेहोश हो गया. अस्पताल ले जाने के बाद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. उसके बाद छात्र के परिवार में कोहराम मच गया.

मृतक छात्र के पिता चंद्र प्रकाश ने बताया कि कृष छुट्टी के बाद घर लौटने के लिए बस में बैठ गया था. लेकिन उसके साथ तीन और छात्रों को स्कूल में बुलाया गया. वहां उन चारों बच्चों को टीचर ने होमवर्क नहीं बनाने के कारण बेरहमी से पिटाई कर दी. जब सभी छात्र वापस बस में बैठने गए तो कृष बस में चढ़ने के बाद दो-तीन कदम चला और गिरकर बेहोश हो गया. उसे देखने से साफ लग रहा था कि उसकी पिटाई की गई है.

गया सिटी एसपी राकेश कुमार ने टाइम्स नाउ को बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. उन्होंने कहा कि मामले में दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा.

इस घटना ने स्कूल प्रबंधन और जिला प्रशासन को दोष देने के साथ-साथ विपक्ष के साथ राजनीतिक स्पेक्ट्रम पर प्रतिक्रियाएं शुरू कर दी हैं. राजद प्रवक्ता एजाज अहमद ने शारीरिक दंड के बाद आठवीं कक्षा के एक बच्चे की मौत पर दुख व्यक्त किया और इस संबंध में स्कूल प्रशासन की भूमिका पर सवाल उठाया.

यह भी पढ़ें| पंजाब के सीएम चन्नी पर कम्प्लैन्ट केस दर्ज, दिया था बिहारियों के खिलाफ बयान

कांग्रेस प्रवक्ता असित नाथ तिवारी ने घटना के पीछे एक बड़ी साजिश की संभावना की ओर इशारा करते हुए जिला प्रशासन और स्कूल प्रबंधन को लापरवाही के लिए फटकार लगाई.

इधर GD गोयनका पब्लिक स्कूल प्रबंधन के खिलाफ चाकंद थाने में FIR दर्ज कराई गई है. चाकंद थाने के थानेदार मृत्युंजय कुमार के अनुसार छात्र के पिता चंद्र प्रकाश के आवेदन पर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ हत्या संबंधी धाराओं (302 व अन्य) में FIR दर्ज किया गया है.

FIR में मृतक छात्र के पिता चंद्र प्रकाश ने कहा है कि उन्होंने अपने बेटे के साथियों से पूछताछ की. तब पता चला कि कृष्ण को स्कूल के एक शिक्षक सुवेंदु ने बुरी तरह बेरहमी से पीटा था. यही नहीं उसे क्लास रूम से बाहर निकाल कर मानसिक रूप से प्रताड़ित भी किया गया था. इस तरह की घटना उसके साथ तीन दिन पहले भी हुई थी. इसकी जानकारी मेरे बेटे ने मुझे दी थी.