सुशांत की पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट में नहीं लिखा है मौत का समय!

Patna (TBN – The Bihar Now डेस्क) | अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी लगातार उलझती दिख रही है. इस कड़ी में सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह ने बाॅलीवुड स्टार की पाेस्टमार्टम रिपाेर्ट पर ही सवाल खड़ा कर दिया है. उन्हाेंने सुशांत सिंह राजपूत की पाेस्टमार्टम रिपाेर्ट पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि आखिर रिपाेर्ट में उनकी माैत का समय क्याें नहीं लिखा है? यह बहुत ही अहम जानकारी है. उन्हें मारकर लटकाया गया या लटकने से उनकी माैत हुई, यह माैत के समय से ही स्पष्ट हाेता है.

विकास सिंह ने कहा कि इस केस में क्राइम सीन के कुछ अनसीन वीडियो सामने आए हैं. इस वीडियो में काले कपड़े में एक आदमी सुशांत की बॉडी के पास बैग पकड़े नजर आ रहा है, जिसने लाइट पिंक कलर की टाेपी लगाई हुई है. इसे सुशांत का हाउस मैनेजर दीपेश सावंत बताया जा रहा है. इस टाेपी वाले को बैग थामे सीढ़ियों से उतरते भी देखा जाता है. इसी वीडियो में ब्लू और व्हाइट कलर की शर्ट पहनी एक लड़की भी सुशांत के अपार्टमेंट में नजर आती है, जो जाकर उस टाेपी पहने हुए शख्स से मिलती है और कुछ बात करती है. टाेपी पहने उस व्यक्ति के हाथ से वह बैग गायब नजर आता है.

उन्‍होंने दावा किया कि जिस वक्त यह सब हो रहा था, उस वक्त तब मुंबई पुलिस भी माैके पर थी. वकील ने वीडियाे पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि आखिर वह मिस्ट्री गर्ल काैन थी. वीडियो देखने के बाद सुशांत के पिता के वकील विकास सिंह ने संदिग्ध शख्स, बैग और महिला की पहचान को लेकर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि अगर कोई आदमी घर से कुछ लेकर जा रहा है तो वह संदिग्ध है. अगर वह किसी लड़की से बात करता है, जो बाद में गायब हो जाती है तो यह बहुत ही संदिग्ध है. उस लड़की की पहचान की जानी चाहिए.

विकास सिंह ने मुंबई पुलिस को भी घेरते हुए आरोप लगाया कि कहीं यह सब सबूत मिटाने के लिए तो नहीं किया गया? सबूत गायब होने से सीबीआई का काम मुश्किल होगा. विकास ने कहा कि मुंबई पुलिस बहुत सक्षम है, पर इस मामले में फिसल गई है. कहा जा रहा है कि सुशांत ने सुबह जूस पिया था, लेकिन किसी ने भी उन्हें जूस पीते नहीं देखा, ऐसे में पोस्टमार्टम में दिए गए समय की डिटेल से ही पता चलेगा कि कहीं उनकी मौत एक रात पहले तो नहीं हुई? विकास ने कहा कि कूपर अस्पताल से तो किसी को भी आसानी से कोई भी सर्टिफिकेट मिल जाता है. यह बहुत बदनाम अस्पताल है. सुशांत को पोस्टमॉर्टम के लिए वहां ले जाना ही संदिग्ध है.

Advertisements