धांधलेबाज राशन डीलरों पर सख्ती, FIR दर्ज

बेगुसराय (TBN रिपोर्ट) :- बिहार में लॉकडाउन के दौरान गरीबों और जरूरतमंदों की परेशानियों को देखते हुए राज्य सरकार ने निर्देश जारी किये थे कि खाने और राशन के सामान की किसी को भी दिक्कत नहीं होगी. लेकिन इसके बावजूद भी बिहार के कई जिलों से राशन डीलरों के खिलाफ राशन वितरण को लेकर धांधलेबाजी की खबरें मिल रही थी.

इसको लेकर बेगुसराय में डीलर के मनमानी के खिलाफ जिला पदाधिकारी अरविंद कुमार वर्मा ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 60 डीलरों से स्पष्टीकरण मांगते हुए 1 पर एफआईआर करने का आदेश दिया है. डीलर की  मनमानी और राशन में कमी देने की शिकायत मिलने के बाद यहा कार्रवाई की गई है.

इस मामले में डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने जिले के लोगों से अपील करते हुए कहा है कि सभी लोग लॉकडाउन का सख्ती से पालन करें. लोगों को इस बीमारी की गंभीरता को समझना होगा तथा लॉकडाउन के आदेश का उल्लंघन नहीं करते हुए सोशल डिस्टेशिंग के शर्त का शत- प्रतिशत अनुपालन करना चाहिए.

उन्होंने आम लोगों से विशेष तौर पर फल व सब्जी विक्रेता, सफाईकर्मी, किराना दूकानदार, दवा द्कानदार एवं वहां काम करने वाले कर्मियों को निश्चित रूप से मास्क के उपयोग की अपील की. जिला पदाधिकारी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि पीडीएस के तहत राशन प्राप्त करने में किसी भी प्रकार की असूविधा से संबंधित शिकायत संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी कार्यालय अथवा जिला नियंत्रण कक्ष के फान नं.-06243-222835 पर करें तथा किसी भी परिस्थिति में सड़क जाम और हंगामा न करें.

जिला पदाधिकारी ने कहा कि, “गैर-कानूनी गतिविधियों में शामिल होने पर और लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जा रही है”. उन्होंने बताया कि, “जिला प्रशासन द्वारा पीडीएस डीलर्स के संबंध में आम नागरिकों/जनप्रतिनिधियों द्वारा किए जाने वाले शिकायतों के मुदेनजर पीडीएस दुकानों का निरीक्षण किया जा रहा है. इस क्रम में अब तक 885 दुकानों की जांच की गई है तथा राशन वितरण में अनियमितता करने वाले 54 विक्रेताओं पर कार्रवाई हेतु संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी को निदेश दिया गया है”.

जिला पदाधिकारी ने कहा कि “राज्य सरकार के निदेश के आलोक में जन-जीवन को सामान्य करने के उदयेश्य से 20 अप्रैल के बाद से ही कई क्षेत्रों में कार्य प्रारंभ करने की छूट दी गई है. देश के विभिन्न हिस्सों में बेगूसराय जिले के फंसे हुए लोगों के सहायतार्थ जिले में गठित प्रवासी मजदूर सहायता कोषांग के माध्यम से अब तक 234 प्रवासी मजदूर द्वारा प्राप्त सूचनाओं के आधार पर उनके समस्याओं का निवारण किया गया है”.