सिवान एम्बुलेंस घोटाला: सियासत गरमाई, MLC टुन्ना पांडेय और MLA रमेश सिंह ने दिया बयान

सीवान (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के गृह जिला सीवान मे करोड़ों का एम्बुलेंस घोटाला (Ambulance Scam) सामने आने के बाद बिहार की सियासत एक बार फिर गरमा गई है. जिस एम्बुलेंस की कीमत 7 लाख के करीब, उसकी खरीदारी तकरीबन पौने 22 लाख में कई गई है. हालांकि जिला योजना पदाधिकारी के हस्ताक्षर से MLA-MLC फंड के तहत लगभग कुल 21 एम्बुलेंस की खरीदारी में अब तक का बड़ा घोटाला सामने आया है.

इस संबंध में जीरादेई के पूर्व विधायक रमेश सिंह कुशवाहा (Ramesh Singh Kushwaha) ने बताया कि इसमें हमलोगों का कुछ योगदान नही है. उन्होंने कहा है कि हमलोगों ने सिर्फ एम्बुलेंस की खरीदारी के लिए अपने लेटर पैड पर लिख कर दे दिया है,अब विभागीय अधिकारी ही बताएंगे कि कैसे खरीदारी हुई है.

वहीं, इस पूरे एम्बुलेंस घोटाला पर बीजेपी MLC टुन्ना पाण्डेय (Tunna Pandey) का कहना है कि एम्बुलेंस खरीदने के लिए हमलोगों ने सिर्फ अपने लेटर पैड पर लिख कर दिया था. अब ये विभाग जानता है कि किसको टेंडर दिया गए, किसको नहीं. उन्होंने कहा कि हमारे फंड से 17 एम्बुलेंस दिए गए हैं, जिसमें 6 अभी चल रहे हैं.

जांच कर अगली कार्रवाई की जाएगी – डीएम

पूरे एम्बुलेंस घोटाला प्रकरण पर डीएम अमित पाण्डेय ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि एम्बुलेंस की खरीदारी का मामला सामने आया है. उन्होंने कहा कि उस वक्त जेम पोर्टल (GEM Portal) पर खरीदारी के लिए जिस उपकरण के साथ एम्बुलेंस लेना था, वह उपलब्ध नहीं था. इस कारण टेंडर निकाला गया जिसमें तीन लोगों ने टेंडर डाला था. अंत में उक्त कार्य के लिए इंद्राशन ट्रेडिंग कम्पनी को टेंडर दिया गया था.

हालांकि डीएम ने बताया कि जांच कमेटी का गठन कर दिया है. इस कमेटी में एडीएम, ट्रेजरी ऑफिसर और स्थापना उप समाहर्ता शामिल हैं. तीन से चार सप्ताह में जांच कर अगली कार्रवाई की जाएगी.

बताते चलें कि बिहार के सिवान जिले में 7 लाख की कीमत वाली एंबुलेंस को 21 लाख में खरीदने का कथित घोटाला सामने आया है. जानकारी के मुताबिक, 7 एंबुलेंस पिछले साल ऊंचे दामों में खरीदी गईं, जिनका इस्तेमाल आज तक नहीं किया गया. जानकारी के मुताबिक, बिहार का सिवान राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का गृह जिला भी है.

इससे पहले छपरा में बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के घर से मिली दर्जनों एम्बुलेंस मिली थी, जिस पर जन अधिकार पार्टी के संयोजक पप्पू यादव ने सवाल उठाए थे. एम्बुलेंस के मामले ने बिहार की राजनीति में भूचाल ला दिया था. अब सीवान में एम्बुलेंस खरीद में घोटाले पर बिहार की सियासत गरमा गई है.