अतहर को थाने से भगाने की थी तैयारी, अलर्ट पुलिस के कारण मंसूबे नहीं हुए कामयाब

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| फुलवारीशरीफ टेरर माड्यूल (Phulwarisharif Terror Module) में पीएफआई (PFI) के संदिग्धों के मंसूबे कितने बुलंद थे, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वे पुलिस की गिरफ्त में आए संदिग्ध अतहर परवेज (Athar Parvez) को थाने से ही भगाने की कोशिश कर रहे थे. अतहर परवेज को थाने से भगाने की साजिश का मास्टर माइंड रियाज था.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अतहर परवेज को पुलिस ने जब गिरफ्तार कर फुलवारी शरीफ थाने में लाया था, रियाज ने अरमान को फोन किया था. अरमान मलिक को उसने फोन कर अतहर को किसी तरह थाने से बाहर लाने के लिए कहा था. उस वक्त अरमान मलिक थाने के पास ही था और पुलिस ने उसे गिरफ्तार नहीं किया था.

तब रियाज ने फोन पर कहा था कि वह अतहर को किसी तरह थाने से बाहर लेकर आए. लेकिन पुलिस इस दौरान पूरी तरह से अलर्ट थी. साथ ही उसकी नजर अरमान मलिक पर भी थी. इसके बाद पुलिस ने अगले ही दिन अरमान मलिक को भी गिरफ्तार कर लिया था.

एटीएस ऑफिस के पास देखा गया था अतहर

इसकी जानकारी पुलिस को तब लगी जब अरमान मलिक के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाला गया. इसके साथ ही यह बात भी सामने आ रही है कि पांच महीने पहले भी अतहर परवेज एटीएस ऑफिस के पास गया था.

कहा तो ये भी जा रहा है कि एटीएस के दो अधिकारी उसके संपर्क में थे. इस मामले में अब जांच एजेंसी यह पता कर रही है अतहर एटीएस ऑफिस के क्यों गया था. इस दौरान उसने वहां किससे मुलाकात की थी.

यह भी पढ़ें| मोतिहारी: मदरसे में NIA ने की छापेमारी, शिक्षक सहित 3 गिरफ्तार

इसके साथ ही पुलिस अतहर को भगाने की कोशिश करने वाले रियाज के बारे में भी जानकारी इकट्ठा कर रही है. हालांकि इस मामले में पुलिस की तरफ से कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है.

पटना में होना था मजहबी कार्यक्रम

इस मामले में एक और अहम बात सामने आ रही है. पुलिस को खबर मिली है कि 24 जुलाई को पटना के श्रीकृष्ण मैमोरियल हाल में पीएफआई एक बड़ा मजहबी कार्यक्रम करने वाला था. इस कार्यक्रम में बिहार समेत देश के पांच राज्यों से लोग शामिल होने वाले थे. कार्यक्रम में करीब एक हजार लोग शामिल होने वाले थे.

बताया जा रहा है कि पीएफआई के इस तरह के मजहबी कार्यक्रम में कई तरह की ट्रेनिंग होती है. पटना में होने वाले इस कार्यक्रम में ट्रेनिंग लेने और देने वाले दोनों भाग लेते, लेकिन इससे पहले ही फुलवारीशरीफ टेरर माड्यूल का खुलासा हो गया.