बाढ़ ट्रिपल मर्डर में एक की हुई गिरफ़्तारी, अन्य अभियुक्तों की खोज जारी

पटना (TBN – अखिलेश्वर कु सिन्हा की रिपोर्ट)| शनिवार को बाढ़ शहर में एक शादी समारोह में हुए ट्रिपल मर्डर (Triple Murder in Barh, Patna) के मामले में एफआईआर दर्ज हुआ है. इसके बाद पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए एक नामजद अभियुक्त राकेश सिंह उर्फ डब्लू को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया. अन्य 6 नामजद व 3 अज्ञात अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी में जुटी है. एफआईआर के अनुसार चुनावी रंजिश के कारण अपराधियों ने इस कांड को अंजाम दिया.

बता दें, शनिवार की देर शाम शहर के वाजितपुर रोड (Wajitpur road of Barh town) स्थित एक मैंरेज हॉल के पास शादी समारोह में आए पंडारक पूर्वी से निर्वाचित मुखिया प्रियरंजन उर्फ गोरेलाल यादव, पंडारक थाना में पदस्थापित एएसआई राजेश कुमार तथा ममरखाबाद गांव के लालबहादुर नामक व्यक्ति को गोली (newly elected mukhiya of Pandarak East and one ASI of Pandarak police station murdered in Barh Patna) मार दी गई थी. इलाज के दौरान तीनों घायलों की मौत हो गई थी.

उसके बाद इस मामले में मृतक मुखिया प्रियरंजन उर्फ गोरेलाल यादव के भाई धर्मराज कुमार ने बाढ़ थाने में हत्या का एफआईआर दर्ज कराया. धर्मराज ने 7 नामजद व 3 अज्ञात लोगों के खिलाफ यह मुकदमा दायर किया. नामजद अभियुक्तों में भोला सिंह, सूरज साव, राजेश कुमार सिंह उर्फ पपलु सिंह, राकेश सिंह उर्फ डब्लू सिंह, विकास सिंह, कन्हैया सिंह तथा धीरज कुमार उर्फ मुन्ना सिंह के नाम शामिल हैं.

यह भी पढ़ें| बाढ़: अपराधियों ने मुखिया और दारोगा को मारी गोली, दोनों की मौत

धर्मराज कुमार ने एफआईआर में लिखा कि उसके मृतक नवनिर्वाचित मुखिया भाई प्रियरंजन पर भोला सिंह, सूरज साव व पपलु ने जान से मारने की नीयत से गोलियां चलाई. इस गोलीबारी में मृतक भाई के सीना, पेट, कमर व हाइड्रोसील पर गोली लगी. वहीं, एएसआई राजेश कुमार पर राकेश उर्फ डब्लू सिंह व विकास सिंह ने गोलियां बरसाई. जबकि मृतक लालबहादुर पर कन्हैया सिंह ने गोलियां बरसाई.

एफआईआर में लिखा गया है कि इस पूरे हत्याकांड में धीरज कुमार उर्फ मुन्ना सिंह ने लाइनर की भूमिका निभाई. धर्मराज के एफआईआर के अनुसार, 2-3 अन्य अज्ञात लोगों द्वारा भी मौके पर पिस्टल से गोलिया चलाई गई थी. पिस्टलों से गोलीबारी कर सभी अपराधी फ़ायरिंग करते हुए भवानी चौक एवं मियां टोली होते हुए फरार हो गए.

एफआईआर के अनुसार, धर्मराज द्वारा अपने घायल भाई प्रियरंजन और एएसआई राजेश कुमार को जल्दी से स्थानीय सरकारी अस्पताल ले जाया गया जहां से दोनों को पटना रेफ़र कर दिया गया. पटना के राजेश्वर अस्पताल में ले जाने के पश्चात दोनों की मौत हो गई.

इस एफआईआर के अनुसार मुकेश सिंह और उदय नारायण शर्मा द्वारा मिलकर इस घटना की साजिश रची गई थी. धर्मराज के एफआईआर के अनुसार अभी हाल ही में सम्पन्न हुए पंचायत चुनाव में उसके भाई प्रियरंजन उर्फ गोरेलाल यादव ने उदय नारायण शर्मा की पुतोह को हराकर मुखिया का पद हासिल किया था.

दी थी धमकी

धर्मराज ने अपने एफआईआर में लिखा गया है कि एक-दो दिन पहले मुकेश सिंह और उदय नारायण शर्मा द्वारा उसे धमकी दी गई थी कि उसका भाई अब कुछ दिनों का मेहमान है और उसे शपथ लेने के पहले ही जान से मार दिया जाएगा. धर्मराज ने एफआईआर में लिखा है कि उसकी व इस घटना के गवाह की जान भी खतरे में है.

पुलिस ने बनाई है स्पेशल टीम

इधर इस ट्रिपल हत्याकांड की जांच शुरू हो गई. इसके लिए पटना के ग्रामीण एसपी के निर्देश पर एक टीम बनाई गई है जिसमें बाढ़ एएसपी अरविंद प्रसाद सिंह (आईपीएस), मोकामा थानाध्यक्ष राजनंदन, बाढ़ थानाध्यक्ष संजीत कुमार, पंडारक थानाध्यक्ष प्रवीण कुमार एवं टेक्निकल सेल के अधिकारियों को शामिल को किया गया है.

बाढ़ पुलिस ने बताया कि घटना के बाद पर मौके पर पहुंची पुलिस ने 12 खोखा बरामद किया था. वहीं आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज को पुलिस ने खंगाला है. हालांकि फुटेज से पुलिस को कोई खास मदद नहीं मिली है.

कुर्की वारंट ले सकती है पुलिस

बाढ़ थानाध्यक्ष संजीत कुमार ने बताया कि इस ट्रिपल हत्याकांड मामले में फरार चल रहे अभियुक्तों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा. अन्यथा पुलिस सभी फरार अभियुक्तों के खिलाफ कुर्की वारंट ले सकती है. उन्होंने बताया कि पुलिस की जांच फिलहाल जारी है. पुलिस के अनुसार इस मामले का जल्द ही उद्भेदन किया जाएगा.