बिहार में विधायक के परिजन भी असुरक्षित

रोहतास (धनंजय तिवारी – The Bihar Now रिपोर्ट)| प्रदेश में अब विधायकों के परिजन भी सुरक्षित नहीं है. रोहतास जिला के परसथुआ में करगहर के कांग्रेस विधायक संतोष मिश्रा के भतीजा संजीव मिश्रा को शनिवार को अपराधियों ने गोलियों से भून डाला, जिससे मौके पर ही मौत हो गई.

करगहर के कांग्रेस विधायक संतोष मिश्रा के चचेरा भतीजा संजीव मिश्रा की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. पुलिस ने शव को अपने कब्जे में ले लिया है तथा पोस्टमार्टम के लिए सासाराम के सदर अस्पताल भेज दिया है. घटना के बाद विधायक संतोष मिश्रा काफी मर्माहत हैं तथा उन्होंने कहा है कि इस सरकार में जब एक विधायक का परिवार के लोग सुरक्षित नहीं हैं तो आम लोगों की क्या स्थिति होगी.

मिश्रा ने दुख व्यक्त करते हुए कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र में लगातार हत्याएं हो रही है. लोग जहरीली शराब पीकर मारे जा रहे हैं लेकिन सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है.

घटना के बारे में बताया जाता है कि जब विधायक का भतीजा संजीव मिश्रा परसथुआ स्थित अपने आवास पर थे, उसी दौरान तीन बाइक पर सवार अपराधियों ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दिया. संजीव मिश्रा को चार गोली लगी. जिसके बाद वह गंभीर रूप से घायल हो गए.

वारदात के बाद अपराधी बाइक से फरार हो गए. वहीं आसपास के लोगों ने आनन-फानन में संजीव को कैमूर जिला के मोहनिया इलाज के लिए ले गए. लेकिन रास्ते में ही संजीव मिश्रा ने दम तोड़ दिया. हत्या के पीछे पुरानी रंजिश बताई जाती है. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

घटना के बाद ग्रामीणों में काफी आक्रोश है. घटना परसथुआ ओपी क्षेत्र की है. मौके पर पुलिस कैम्प कर रही है. पुलिस ने शव को अपने कब्जे में ले लिया है.

आप यह भी पढ़ें‘मेधा दिवस’ के रूप में मनाया जाए डा. राजेंद्र प्रसाद की जयंती – ग्लोबल कायस्थ कांफ्रेंस

बता दें कि मृतक संजीव मिश्रा करगहर के कांग्रेस विधायक संतोष मिश्रा के रिश्ते में भतीजा थे. उसकी हत्या से इलाके में सनसनी फैल गई है. संजीव मिश्रा चंद्रिका मिश्रा के पुत्र थे. स्थानीय लोगों ने बताया कि घटना के पीछे आपसी रंजिश हो सकती हैं. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है.

मृतक संजीव मिश्रा

गौरतलब है कि पूर्व मंत्री स्व. गिरीश नारायण मिश्रा के पुत्र करगहर के विधायक संतोष मिश्रा है. पिछले विधानसभा चुनाव में भी संजीव अपने चाचा के लिए बढ़-चढ़कर चुनाव प्रचार किया था. जिसमें संतोष मिश्रा को सफलता भी मिली और वे करगहर के विधायक बने.

बताया जाता है कि आगामी पंचायत चुनाव में संजीव मिश्रा किस्मत आजमाना चाह रहे थे. इसकी भी इलाके में चर्चा है. मृतक के भाई परसथुआ के गिरीश नारायण मिश्रा कॉलेज के सचिव मंदीप मिश्रा है. उन्होंने बताया कि उनके परिवार से उस तरह की कोई रंजिश किसी की नहीं है. हत्या का क्या कारण है यह पुलिस ही बता सकती है. फिलहाल इलाके में सनसनी है.

घटनास्थल पर डीएसपी विनोद कुमार रावत के नेतृत्व में पुलिस कैंप कर रहे हैं तथा अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी भी की जा रही है. वहीं परिजनों से भी जानकारी इकट्ठा की जा रही है. पूरे घटनाक्रम पर रोहतास एसपी आशीष भारती खुद नज़र रख रहे हैं.