अंतर्राष्ट्रीय तस्करों ने चलाई चार राउंड गोली, जान बचाकर भागे वनकर्मी

बगहा (इमरान अजीज – The Bihar Now रिपोर्ट) | बिहार के इकलौते वाल्मीकि टाईगर रिजर्व जंगल के एम 29 में तैनात वनकर्मियो के ऊपर बीती रात को अंतर्राष्ट्रीय तस्करों ने 4 राउंड गोली चलाई. गनीमत की बात रही की किसी वनकर्मी के हताहत होने की खबर नहीं है. गोली चलने की सूचना पर वन विभाग सहित पुलिसकर्मियों में अफरातफरी मच गई.

वाल्मीकि नगर रेंजर महेश प्रसाद ने बताया कि घटना के फौरन बाद स्थानीय थाना के प्रभारी अर्जुन कुमार से संपर्क साधा  गया. अन्य वनकर्मियों के साथ पुलिस के जवान भी प्रभारी के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर मोर्चा संभाला. 

रेंजर ने बताया कि मध्यरात्रि 12 से 1 बजे के करीब अचानक विटीआर जंगल के एम 29 कक्ष संख्या स्थित वन पोस्ट पर गोलियां चलने लगी, जिससे पोस्ट पर तैनात विनकर्मी अंधेरे में ही जान बचाकर भागने लगे. 

रेंजर ने आगे बताया कि ये अंतर्राष्ट्रीय वन तस्कर सम्भवतः अपने पकड़े गए साथियों व उनपर हुई करवाई का बदला लेने की नीयत से ऐसी हरकत की है. उन्होंने बताया कि अपराधी गोली चलाते हुए नदी के रास्ते वापस नेपाल की तरफ भाग निकले.

बता दें कि विटीआर जंगल चुलभट्टा एम 29 में घुसने से पहले गंडक नदी में मछली मार रहे मछुआरों को अपराधियों ने गोलियां कर वहां से भाग जाने को कहा था.

इस घटना की पुष्टि करते हुए वन क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय ने बताया कि नेपाल से नदी के रास्ते नाव से आए वन अपराधियों ने वनकर्मियो पर गोलियां चलाई, जिसमे वनकर्मी बाल बाल बचे हैं.

पूछे गए सवाल में कि वनकर्मियों की तरफ से जवाबी क्या करवाई की गई ल, तो उन्होंने बताया कि हमारे वनकर्मियों के पास हथियार उपलब्ध नहीं है. निहत्थे ही लाठी डंडों से विटीआर कि सुरक्षा करते हैं.

उन्होंने आगे बताया कि केंद्र सरकार से एसटीएफ स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स के लिए एप्रूवल मिल गया है जिसमें 90 हथियारबंद फोर्स होंगे. जिसे 30-30 की संख्या में मदनपुर, गोवर्धनहा व वाल्मीकिनगर वनप्रमण्डल में तैनाती की जाएगी. इस फोर्स में महिलाकर्मियों की भी संख्या होगी.

क्षेत्र वन निदेशक ने बताया कि फॉरेस्ट गार्डों की बड़े पैमाने पर बहाली शीघ्र की जाएगी. इधर स्थानीय पुलिस, एसटीएफ, एसएसबी व विनकर्मियो की टीमें घटनास्थल पर जांच पड़ताल कर रही है.