जिम ट्रेनर गोली कांड: कान्ट्रैक्ट शूटर का हुआ था इस्तेमाल

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राजधानी पटना में जिम ट्रेनर को गोली मारने के मामले में पुलिस को अहम सुराग हाथ लगा है. इस जानकारी के अनुसार, जिम ट्रेनर विक्रम सिंह को मारने के लिए कान्ट्रैक्ट किलर से हमला करवाया गया था.

सूत्रों के अनुसार, विक्रम को मारने के लिए 3 लाख में सौदा किया गया था. कान्ट्रैक्ट किलर को कहा गया था कि वे विक्रम को गोली से मार दे और पैसे लेकर चला जाए. शूटरों ने भी ऐसा ही किया. अब पटना पुलिस इस सुराग के हाथ लगने के बाद 8 लोगों पर नजर लगाए हुए है. साथ ही आसपास के जिलों में छापेमारी कर रही है.

जानकारी के मुताबिक, ये कान्ट्रैक्ट किलर पटना के नहीं थे बल्कि दूसरे जिले से यहां आए थे. उनसे कहा गया था कि वे विक्रम को गोली मार दें और 3 लाख रुपये लेकर फरार हो जाएं. पुलिस को घटनास्थल से 4 खोखे बरामद हुए थे.

बता दें कि पिछले 18 सितंबर को राजधानी के कदमकुंआ थानांतर्गत लोहा सिंह गली में जिम ट्रेनर विक्रम सिंह को अपराधियों ने 4 गोलियां मार दी थी. गोली लगने के बाद घायल विक्रम खुद पीएमसीएच में अपना इलाज करवाने पहुंचा था.

गोली लगने के बाद अपने बयान में विक्रम ने कहा था कि जदयू के डॉक्टर राजीव और उनकी पत्नी खुशबू ने उनपर जानलेवा हमला करवाया है. उसके अनुसार ये दोनों उसकी हत्या करवाना चाहते हैं. जबकि डॉक्टर राजीव और उनकी पत्नी खुशबू खुद को निर्दोष बता रहे हैं.

इधर विक्रम का कहना है कि उसके पास कई ऐसे सबूत हैं जो यह साबित कर देंगे कि खुशबू और उसके पति डॉ राजीव ने ही उसपर गोली चलवायी थी.

Also Read| डिप्टी सीएम पर लगा बड़ा आरोप, क्या तारकिशोर प्रसाद का टाइम पूरा हो गया !!

पटना के सिटी एसपी (मध्य) अम्बरीष राहुल ने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि – ‘पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है. बिना किसी सबूत के डॉ. दंपति को हाथ लगाना ठीक नहीं है. हमारे हाथ लगे सुराग पर हम काम कर रहे हैं. शूटरों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है. मैं मानता हूं कि हमारे हाथ खाली हैं, लेकिन जल्द ही पुलिस मामले का खुलासा करेगी. मामले की जांच वैज्ञानिक रूप से की जा रही है.’

चाहे डॉ राजीव और उसकी पत्नी खुशबू कुछ कहे, लेकिन इस मामले में उनदोनों के इर्दगिर्द ही शक की सुई घूम रही है. हो भी क्यों न क्योंकि जिम ट्रेनर विक्रम और खुशबू के बीच फोन पर 1100 कॉल हुए थे. ये बात मुख्य रूप से मध्य रात्रि में हुआ करती थी जो काफी लंबी भी होती थी.

डॉ राजीव के मुताबिक, जिम ट्रेनर उसका फॅमिली ट्रेनर था और उसने राजीव से कुछ पैसे उधर लिए थे. राजीव और उसकी पत्नी, जो कोरोना लॉकडाउन के दौरान जिम ट्रेनर विक्रम से अनलाइन क्लास लेती थी, ने बताया कि अपने पैसे वापस लेने के लिए ट्रेनर को कई बार फोन किया था.