बाप-बेटे का गैंग, कुख्यात बेटा चढ़ा पुलिस के हत्थे

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | माणिक और उसका पिता मनोज सिंह दोनों मिलकर बिहार में गैंग चलाता था. बिहार की राजधानी पटना के पास नौबतपुर इलाके में बाप-बेटे दोनों ने मिलकर आतंक मचा रखा था. नौबतपुर थाना क्षेत्र का कुख्यात अपराधी माणिक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

खबरों के मुताबिक, एसटीएफ की टीम को माणिक की भनक लगी थी. उसके बाद टीम ने रेकी करनी शुरू कर दी. फिर अंततः पुलिस की टीम ने उसे झारखंड के हजारीबाग से गिरफ्तार कर लिया. वहीं माणिक का पिता मनोज फरार होने में सफल रहा. माणिक को गिरफ्त में लेने के बाद शुक्रवार की देर रात तक पुलिस की टीम उससे नौबतपुर थाने में पूछताछ करती रही.

जानकारी के अनुसार दोनों ने नौबतपुर इलाके में एक फैक्ट्री के मालिक से एक करोड़ रुपये की रंगदारी लेने की फिराक में था. रंगदारी नहीं मिलने पर दोनों ने बमबाजी की घटना को अंजाम दिया था. साथ ही उनदोनों ने साज इनफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के मालिक को रंगदारी नहीं देने पर हत्या करने की धमकी दे रखी थी. उसने बाकायदा एक लिस्ट बनाकर रखी थी जिसमें कई कंस्ट्रक्शन कंपनियों और व्यवसायियों के नाम थे. आने वाले दिनों में वह उन सबों से रंगदारी वसूलता.

पूछताछ के दौरान माणिक ने अपने गिरोह के बारे में कई अहम खुलासे किये हैं. उसने बताया कि कम उम्र के लड़कों को वह रंगदारी वसूलने के लिये भेजा करता था. इस गैंग में ऐसे युवकों का इस्तेमाल किया जाता था, जिनका पहले से किसी तरह का आपराधिक रिकॉर्ड न रहा हो. कई बार माणिक का पिता मनोज गिरोह में शामिल नये अपराधियों को गोली चलाने को कहता था. उसकी बातों में आकर मनोज-माणिक गैंग के शागिर्द गोलीबारी कर दहशत फैला देते थे. फिर दोनों बाप-बेटे व्यवसायियों को रुपये देने वरना अंजाम भुगतने की धमकी देते थे. पटना में बड़ी वारदातों को अंजाम देने के बाद बाप-बेटे बिहार के बाहर भाग गए और कभी बिहार का रुख नहीं किया.

माणिक सिंह बेहद कम उम्र में अपराध की दुनिया में कदम रख चुका था. नाबालिग उम्र में ही माणिक के नाम कई हत्या और आपराधिक मामले दर्ज हो चुके थे. पुलिस ने माणिक को गिरफ्तार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है. अब पुलिस को माणिक के पिता की तलाश है.