IPS विनय तिवारी नहीं किये गए मुक्त, BMC पर भड़के गुप्तेश्वर पांडेय

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | सुशांत सिंह राजपूत मामले में बिहार पुलिस की 4 सदस्य की टीम वापस पटना लौट आई है. लेकिन अभी भी आईपीएस ऑफ़िसर व सिटी एसपी सेंट्रल विनय तिवारी को उन्होंने वहां से नहीं आने दिया है. अभी भी वह मुंबई में फसे हुए हैं. उन्हें अब भी गोरेगांव के गेस्ट हाउस में जबरन क्वारेंटाइन करके रखा गया है. सुप्रीम कोर्ट की कड़ी टिप्पणी के बाद भी बीएमसी ने उन्हें नहीं छोड़ा.

वहीँ आज बिहार पुलिस की तरफ से दोबारा बीएमसी को एक लेटर भेजा गया है. नए लेटर के जरिए भी बीएमसी से आईपीएस विनय तिवारी को क्वारेंटाइन से मुक्त करने की मांग की गई है. इस बात को खुद बिहार पुलिस के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कंफर्म किया है.

DGP गुप्तेश्वर पांडेय भड़के

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने इसकी कड़ी शब्दों में निंदा की है और कहा कि बीएमसी को बिहार पुलिस की तरफ से ये आखिरी लेटर भेजा गया है. सूत्र के अनुसार इस बार एडीजी मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने बीएमसी के कमिश्नर इकबाल सिंह चहल को लेटर लिखा है. एडीजी मुख्यालय ने साफ लिखा है कि मामला अब सीबीआई के पास जांच के लिए जा चुका है, ऐसे में अविलंब विनय तिवारी को छोड़ना होगा.

अगर इसके बाद भी बीएमसी अपनी मनमानी पर अडिग रहा तो फिर लीगल ओपिनियन लेंगे. यह भी बताया गया है की जल्द ही बिहार पुलिस के अधिकारी महाधिवक्ता से मिलेंगे. पूरे मामले पर लीगल ओपिनियन लेने के बाद पटना हाइकोर्ट में बीएमसी के खिलाफ कंप्लेन करेंगे. फिलहाल बिहार पुलिस को बीएमसी के जवाब का इंतेजार है. वो भेजे गए आखिरी लेटर का जवाब क्या देती है? आईपीएस विनय तिवारी को छोड़ती है या नहीं? इस पर डीजीपी की भी नजर बनी हुई है.