बिहार के मंत्री का निजी सहायक गिरफ्तार, बनाया था संसद का जाली एंट्री पास

पटना / नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बड़ी खबर बिहार (Bihar) से है जहां राज्य के एक मंत्री का निजी सहायक संसद (Parliament) का जाली एंट्री पास बनाया और लगभग एक साल तक जाली पास के आधार पर संसद में घूमता रहा था. उसे दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया है.

बिहार के खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम (Janak Ram Minister) के निजी सहायक 26 वर्षीय बबलू कुमार आर्य (Babloo Kumar Arya) को शनिवार को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. बबलू पर संसद का जाली एंट्री पास बनवाने का आरोप है.

मंत्री के निजी सहायक के खिलाफ गोपालगंज (Gopalganj) के सांसद डॉ. आलोक सुमन (Dr Alok Suman MP) ने लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला (Om Birla, Lok Sabha Speaker), गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah Home Minister), प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) और दिल्ली पुलिस से शिकायत की थी. जांच में सही पाए जाने पर उसे गिरफ्तार किया गया है.

यह भी पढ़ें| तीन सालों बाद रविवार को पटना पहुंचेंगे लालू यादव, कार्यकर्ताओं में जोश

सांसद डॉ. आलोक सुमन ने आरोप लगाया है कि बबलू कुमार आर्य ने उनके नाम का सहारा लेकर संसद भवन के लिए फर्जी पास बनाया था. इस आरोप कि जांच के बाद बबलू आर्य के साथ-साथ एक कारोबारी महेश की भी गिरफ्तारी की गई है. बबलू ने अपने साथ महेश का भी फर्जी तरीके से संसद का एंट्री पास बनवाया था.

दिल्ली पुलिस ने बताया कि महेश कुमार को बिहार के खनन मंत्री जनक राम के निजी सहायक बबलू आर्य की गिरफ्तारी के बाद गिरफ्तार किया गया था. दिल्ली क्राइम ब्रांच के एक पुलिस सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि गोपालगंज के सांसद ने इस साल 3 सितंबर को स्पीकर ओम बिरला के साथ-साथ दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना के पास शिकायत दर्ज कराई थी कि किसी ने मूल पास को स्कैन करके संसद का फर्जी एंट्री पास बनाया और इस्तेमाल किया. सांसद को शक था कि 3 जून 2019 से 2 जून 2020 के बीच किसी अज्ञात व्यक्ति ने सांसद का सहायक होने के बहाने उनके लेटरहेड का गलत इस्तेमाल किया.

यह भी पढ़ें| इसमें भी लगी आग – माचिस की कीमत 1 दिसंबर से होगी दोगुनी

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने तेजी से कार्रवाई करते हुए प्राथमिकी दर्ज की और पहले बबलू आर्य को गिरफ्तार किया. पूछताछ के दौरान उसने महेश के नाम का खुलासा किया, जिसे शनिवार को गिरफ्तार किया गया. गोपालगंज के एसपी आनंद कुमार ने महेश कुमार की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस ने मामले की आगे की जांच के लिए उन्हें हिरासत में ले लिया है.

पुलिस ने कहा कि 18 जून, 2019 से 31 दिसंबर, 2019 की अवधि के लिए किसी ज्योति भूषण कुमार भारती को पास जारी किया गया था. बबलू की जान पहचान भारती से थी. बबलू आर्य ने भारती की जेब से गोपालगंज स्थित उनके घर पर उनकी जानकारी के बिना मूल पास ले लिया था. पुलिस ने बताया कि उसने गोपालगंज के एक साइबर कैफे में मूल पास को स्कैन करने और विवरण संपादित करने के बाद पास को जाली बनाया था.

बबलू से मेरा कोई वास्ता नहीं – मंत्री

इधर, बिहार के खान-भूतत्व मंत्री जनक राम ने बताया कि जब मुझे इसकी जानकारी मिली तो एक महीने पहले ही बबलू कुमार आर्य को बर्खास्त कर दिया था. उसकी तमाम सुविधाओं को खत्म कर दिया था. अब उससे मेरा कोई वास्ता नहीं है. बबलू द्वारा जाली एंट्री बनाना जांच का विषय है और कानून अपना काम कर रहा है. उन्होंने कहा कि मैं इस मामले में कानून का साथ दे रहा हूं.

बताते चलें कि गोपालगंज से डॉ आलोक सुमन से पहले बीजेपी (BJP) से जनक राम सांसद हुआ करते थे. 2019 में गोपालगंज सीट जदयू (JDU) के खाते में जाने से जनक राम को टिकट नहीं मिल पाया. वहां से डॉ आलोक सुमन को टिकट दिया गया. फिर बीजेपी ने जनक राम को एमएलसी बनाकर मंत्री बना दिया. जबसे जनक राम मंत्री हैं, तब से बबलू उनके निजी सहायक के तौर पर काम कर रहा था.