नगर परिषद की मुख्य पार्षद गिरफ्तार, 62 लाख रुपये गबन का है आरोप

सासाराम (The Bihar Now – धनंजय तिवारी की रिपोर्ट)। सासाराम नगर परिषद की मुख्य पार्षद कंचन देवी (Chief Councilor Kanchan Devi) को शुक्रवार को नगर थाना की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. कंचन देवी पर नगर परिषद की आठ योजनाओं का बिना काम कराए 62 लाख रुपय गबन कर लेने का मुकदमा दर्ज है.

बता दें कि जिलाधिकारी के आदेश पर कंचन देवी पर इस साल जनवरी तथा मार्च में दो एफआईआर दर्ज हुए थे. पहली प्राथमिकी जनवरी में बुडको (BUDCO) के सहायक अभियंता जितेन्द्र कुमार ने दर्ज करायी थी. इसमें आरोप लगाया गया है कि वार्ड नंबर 24 में अन्य योजनाओं से पूर्व में कराए गए कार्य के बाद भी उसी योजना का चयन करके बिना कार्य कराए साढे़ सात लाख रुपए की निकासी की गई थी. जिसमें बुडको के सहायक अभियंता का फर्जी हस्ताक्षर करके राशि की निकासी की गई थी.

वहीं, कंचन देवी के विरुद्ध 1 मार्च को दूसरा एफआईआर हुआ था. यह एफआईआर जिलाधिकारी के आदेश पर नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी अभिषेक आनंद द्वारा दर्ज कराया गया था. इसमें कंचन देवी पर आरोप है कि वार्ड 11 में सात योजनाओं पर बिना कार्य कराए ही 58 लाख रुपए की निकासी कर ली गई थी.

आप यह भी पढ़ेंबिहार का ऐतिहासिक देववरूणार्क सूर्यमंदिर बदहाल स्थिति में

शुक्रवार को रोहतास के एसपी आशीष भारती ने बताया कि कंचन देवी पिछले कई महीनों से फरार चल रही थी. इसी बीच पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि कंचन देवी नगर थाना के बेदा के पास एक मकान में मुख्य पार्षद कंचन देवी छुपी हुई है. इसके बाद नगर पुलिस ने छापा मार कर उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस टीम में महिला पुलिस बल भी शामिल थी.

कंचन देवी की गिरफ्तारी के बाद गबन करने वालों में हड़कंप मचा हुआ है. एसपी ने बताया कि इस मामले में अन्य अभियुक्तों की जल्द गिरफ्तारी होगी.