जमीन विवाद में झुलसे भाई-बहन की हुई मौत, 17 फरवरी को दरभंगा बंद का ऐलान

पटना/दरभंगा (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पिछले 10 फरवरी को दरभंगा शहर में जमीन विवाद में जिंदा जला (Case of burning alive in land dispute in Darbhanga city) देने के बाद बुरी तरह झुलसे भाई-बहन की मंगलवार को पटना के पीएमसीएच में मौत हो गयी. इस घटना के विरोध में मिथिला स्टूडेंट यूनियन (MSU) नामक संस्था ने 17 फरवरी को दरभंगा बंद का ऐलान किया है.

सुबह बहन पिंकी झा की मौत हो गई जबकि उसके थोड़ी ही देर बाद भाई संजय झा की भी मौत हो गयी. पिंकी झा गर्भवती थी तथा उसके पेट में पल रहे बच्चे की मौत घटना के दूसरे दिन ही हो गयी थी. इस ट्रिपल मर्डर केस से पूरा शहर हिल गया है.

जिंदा जलाने का प्रयास

बता दें, भू-माफिया ने दरभंगा के गिरिंद्र मोहन रोड (Darbhanga’s Girindra Mohan Road) स्थित बंगला नंबर चार पर कब्जा करने को लेकर इस घटना को अंजाम दिया था. घर को बुल्डोजर से तोड़ने के क्रम में परिवार के चार सदस्यों को जिंदा जलाने का प्रयास किया गया था. अब इस घटना में झुलस गए चार में से दो लोगों की मौत हो चुकी है. इस मामले को लेकर पुलिस प्रशासन पर भी काफी सवाल उठा था.

थाने में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार गुरुवार की देर शाम करीब 20 से 25 की संख्या में भू माफियाओं ने संजय झा नामक व्यक्ति के मकान को जबरदस्ती बुलडोजर से ढहाने की कोशिश की थी. इसके बाद घर को आग लगा दिया था.

इस आग में संजय झा के परिवार को जिंदा जलाकर मार डालने की कोशिश की गई. उस वक्त घर में मौजूद तीन सदस्य गंभीर रूप से जख्मी हो गये, जबकि एक हल्के रूप से झुलस गया था.

संजय झा और उनकी गर्भवती बहन पिंकी बुरी तरह झुलस गईं थे. दरभंगा के डीएमसीएच में भर्ती करने के बाद उन्हें बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच पटना रेफर कर दिया गया था. पीएमसीएच में इलाज के दौरान मंगलवार को दोनों भाई-बहन की मौत हो गई.

मुख्य आरोपी नेपाल में छिपा

इस कांड का मुख्य आरोपी शिव कुमार झा की अब तक गिरफ्तारी नहीं हुई है. उसके नेपाल की सीमा पर छिपे होने की सूचना मिली है. उसकी गिरफ्तारी के लिए कुर्की-जब्ती की कार्रवाई भी की जा रही है. इस मामले में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए कांड से जुड़े 8 अपराधियों को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया था.

दरभंगा के प्रभारी वरीय पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार प्रसाद ने यह जानकारी दी कि इस मामले में कुल 40 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है. अब तक 13 अभियुक्तों की पहचान कर ली गयी, जिसमें से 8 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

बताते चलें, दरभंगा पुलिस ने कांड के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के लिए एक एसआईटी का गठन (SIT formed in Darbhanga case) किया है. इस टीम को दरभंगा के सदर एसडीपीओ कृष्ण नंदन कुमार लीड कर रहे हैं.