बाढ़ पुलिस ने गोलू हत्याकांड का किया उद्भेदन, तीन गिरफ्तार

बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट)|सुमित शर्मा उर्फ गोलू हत्याकांड का खुलासा कर बाढ़ पुलिस ने मामले को सुलझा दिया है. इस हत्याकांड में शामिल तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है जिन्होंने अपना अपराध भी स्वीकार कर लिया है. इस बात की जानकारी बुधवार को बाढ़ अनुमंडल के एएसपी अरविंद प्रताप सिंह ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दी.

बता दें, गत 13 सितंबर को बाढ़ थानांतर्गत एनएच 31 पर ब्रह्मस्थान, दाल मिल, कछुआरा के पास हासनचक गांव निवासी 17 वर्षीय सुमित शर्मा उर्फ गोलू की हत्या दिनदहाड़े 2 बजकर 50 मिनट पर मोटरसाइकिल सवार अज्ञात अपराधकर्मियों द्वारा ऑटो से खींचकर तब कर दी गई जब वह कोचिंग से घर लौट रहा था. इसके पिता की मृत्यु तीन वर्ष पहले बिजली के चपेट में आ जाने से हो गई थी. छात्र की मृत्यु घटनास्थल पर ही हो गई थी. अब घर में केवल विधवा मां ही बची हैं.

इस संबंध में बाढ़ थाना कांड संख्या 381/21 दर्ज किया गया है. घटना की सूचना मिलने पर बाढ़ थाना पुलिस तुरंत एक्शन में आई. घटनास्थल का मुआयना करते हुए बाढ़ थाना की पुलिस टीम द्वारा वैज्ञानिक/त्वरित अनुसंधान करते हुए साक्ष्य के आधार पर घटना में संलिप्त तीन अभियुक्तों शिवम कुमार (बरबीघा), विकास कुमार (थाना पंडाल) एवं सूरज कुमार (नदावा थाना बाढ़) को गिरफ्तार किया गया.

अनुसंधान के क्रम में गिरफ्तार अभियुक्त शिवम कुमार एवं विकास कुमार से पूछताछ की गई तो दोनों ने सुमित शर्मा उर्फ गोलू कुमार को गोली मारने की बात स्वीकार कर ली. अभियुक्तों ने हत्या करने का कारण यह बताया गया कि मृतक सुमित शर्मा उर्फ गोलू द्वारा अभियुक्त शिवम कुमार के परिवार की एक लड़की को लगातार कॉल की जाती थी और कोचिंग आने जाने के क्रम में कमेंट करते हुए हाथ पकड़ने का भी प्रयास किया गया था.

ऐसी ही एक घटना अभियुक्त शिवम के द्वारा देख ली गई. उसके बाद अभियुक्त शिवम एवं मृतक गोलू के बीच वाद-विवाद, गाली गलौज एवं धमकी का क्रम शुरू हुआ. इसी कारण उपरोक्त तीनों अपराधकर्मियों के द्वारा सुमित शर्मा उर्फ गोलू कुमार की हत्या को योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया गया.

Also Read| पीएम केयर्स फंड भारत सरकार का फंड नहीं: केंद्र सरकार

पुलिस द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इस कांड के अनुसंधान एवं उद्भेदन में बाढ़ थानाध्यक्ष पु०नि० संजीत कुमार, मोकामा पु०नि० राजनंदन, बख्तियारपुर पु०नि० कमलेश प्रसाद शर्मा, अथमलगोला थानाध्यक्ष राजीव रंजन सिंह, अनुसंधानकर्ता अ०नि० अनिरुद्ध कुमार द्वारा सराहनीय प्रयास किया गया है.

पुलिस ने इस हत्याकांड में इस्तेमाल किए गए पल्सर मोटरसाइकिल तथा इसके साथ एक हेलमेट और दो मोबाइल बरामद किया है. इस हत्याकांड के मामले की जांच बाढ़ अनुमंडल के एएसपी अरविंद प्रताप सिंह के नेतृत्व में की जा रही थी.