वेब पत्रकार ह’त्याकांड: 1 महिला समेत 6 गि’रफ्तार, WJAI ने की चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा

पटना / बेनीपट्टी (TBN – The Bihar Now डेस्क)| वेब पत्रकार सह आरटीआई कार्यकर्ता बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा (23 वर्ष) ह’त्याकांड (Buddhinath Jha Alias Avinash Jha Murder Case) में पुलिस ने एक महिला समेत 6 व्यक्तियों को गि’रफ्तार किया है. वहीं, वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (WJAI) ने मामले में चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा की है.

रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में बेनीपट्टी पुलिस (Benipatti Police) ने मीडिया को मामले की अद्दतन जानकारी दी. पुलिस ने मीडिया को बताया कि बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा (23 वर्ष) ह’त्याकांड में 1 महिला समेत 6 लोगों की गि’रफ़्तारी की गई है. इन सबों के खिलाफ बेनीपट्टी थाना कांड स०-243 / 21 दिनांक 11.11.21; धारा 363 / 365 / 120 (बी) भादवि के अन्तर्गत मामला दर्ज किया गया है.

मोबाईल पर आखिरी बात महिला से हुई

पुलिस के अनुसार, 10 नवंबर को बेनीपट्टी के चन्द्रशेखर झा द्वारा थाना में रात्रि करीब 09 बजे सूचना दी गई कि उनका भाई बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा 09 नवंबर की रात 10:00 बजे से ला’पता है. पुलिस ने चन्द्रशेखर झा से अ’पहृत बुद्धिनाथ झा का मोबाइल नम्बर लेकर उसका सीडीआर खंगाला. पुलिस ने पाया कि बुद्धिनाथ की मोबाईल पर अंतिम बात पूर्णकला देवी (पति – जयराम पासवान, सा-अतरौली, थाना-अरेर) नामक एक महिला से लगभग 10 बजे रात में हुई थी.

यह भी पढ़ें | मधुबनी: वेब पत्रकार की ह’त्या, बोरे में मिला अधज’ला श’व

उसके बाद पुलिस ने 11 नवंबर को पूर्णकला देवी को थाना बुलाकर उससे पूछताछ की. पूर्णकला देवी ने पुलिस को बताया कि अविनाश से बात होने के समय वह अपने मायके ब्रहमपुरा में थी. तकनीकी सत्यापन से पुलिस ने उसके बयान को झूठा पाया क्योंकि पूर्णकला देवी घटना की पूरी रात बेनीपट्टी में ही उपस्थित थी.

अपहरण कर नर्सिंग होम की तरफ ले गये

उसके बाद पुलिस ने पूर्णकला देवी से कड़ाई से पूछताछ की. कड़ाई करने पर उसके द्वारा बताया गया कि घटना की रात लगभग 10:15 बजे बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा कटेया रोड स्थित अनुराग हेल्थकेयर (Anurag Healthcare) में आया था. उसी हेल्थकेयर में पूर्णकला देवी से उसकी मुलाकात हुई. कुछ देर बाद पूर्णकला देवी और अविनाश झा उक्त हेल्थकेयर से बाहर निकले.

वहां पहले से घात लगाकर खड़े पाँच व्यक्तियों, रौशन कुमार साह, बिहू कुमार, दीपक कुमार पंडित, पवन कुमार पंडित तथा मनीष कुमार ने अविनाश झा को पकड़कर केके चौधरी के नर्सिंग होम की तरफ ले गये. लेकिन इस बात की जानकारी पूर्णकला देवी ने किसी को नहीं दी.

10 नवंबर की रात में बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा के परिजन पूर्णकला देवी से पूछताछ करने उसके मायके ब्रहमपुरा गये. पूर्णकला देवी ने जानबूझकर अविनाश के अ’पहरण होने की घटना को उन सबसे नहीं बताया. यहाँ तक कि 11 नवंबर को पुलिस को भी उसने सही जानकारी नहीं दी थी.

लेकिन जब पुलिस ने पूर्णकला देवी की झूठ को पकड़ लिया तो उससे कड़ाई से पूछताछ की गई. इसके बाद पूर्णकला देवी ने 9 नवंबर के रात की घटना व उन पांचों व्यक्तियों के बारे में पुलिस को बता दिया. फिर पूर्णकला देवी समेत उसके द्वारा बताये गए पांचों व्यक्तियों को पुलिस द्वारा रविवार को गिरफ्तार कर लिया.

WJAI ने की चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा

इधर वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (WJAI) ने मधुबनी के वेब पत्रकार अविनाश की नृ’शंस ह’त्याकांड के खिलाफ़ चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा की है. डब्ल्यूजेएआई ने मामले की घोर भर्त्सना करते हुए निष्पक्ष त्वरित अनुसंधान, स्पीडी ट्रायल और मुआवजे की माँग की है.

इस संबंध में संगठन ने मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, मुख्य सचिव, डीजीपी और अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग को ज्ञापन भेजा है. संगठन ने इस हत्याकांड की निष्पक्ष और त्वरित अनुसंधान तथा स्पीडी ट्रायल चलाकर दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने तथा पीड़ित परिवार को उचित और पर्याप्त मुआवजा की माँग की है.