पटना के गर्दनीबाग़ इलाके से शराब पीते 5 हाई प्रोफाइल व्यक्ति गिरफ्तार

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राजधानी पटना के गर्दनीबाग़ थानांतर्गत एक शराब पार्टी से पाँच लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार (Five High Profile People Arrested In Gardanibagh, Patna for consuming liquor) किया है. बताया जाता है कि सभी हाईप्रोफाइल लोग हैं. इनलोगों के पास से शराब की पांच खाली व एक भरी बोतल भी बरामद हुई हैं.

मामला गर्दनीबाग़ थाना क्षेत्र के राजपूताना इलाके (Rajputana area of Gardanibagh, Patna) का है जहां रविवार रात को एक शराब पार्टी चल रही थी. इस शराब पार्टी में एक अधिकारी, प्रबंधक समेत अन्‍य लोग शामिल थे. इधर पुलिस को जैसे ही पार्टी के बारे में गुप्त रूप से पता चला, पुलिस ने वहां छापेमारी की और पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया. ये सभी नशे में धुत थे.

यह भी पढ़ें| बख्तियारपुर सीओ के खिलाफ युवती ने किया केस, कहा कई सालों से दे रहा था शादी का झांसा

गर्दनीबाग थानाध्‍यक्ष अरुण कुमार (Gardanibagh SHO Arun Kumar) के अनुसार, मेडिकल जांच में पकड़े गए सभी पांच लोगों के शराब पीने की पुष्टि हो गई. पांचों को कस्टडी में लेने के बाद पुलिस ने पूछताछ करनी शुरू कर दी है. सभी गिरफ्तार व्यक्तियों की कोरोना जांच कराई गई है. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है.

कथित न्यायिक पदाधिकारी गिरफ्तार

अरुण कुमार ने कहा कि पहले तो गिरफ्तार एक व्यक्ति ने पुलिस को काफी धौंस दिखाया और कहा कि वह एक न्यायिक पदाधिकारी है. लेकिन न्यायिक पदाधिकारी सेवा संघ ने बताया कि आरोपित किसी प्रकार की ज्यूडिशियल सेवा से नहीं जुड़ा है.

इसके अवाला एक व्यक्ति ठेकेदार और तीन अन्य लोग हाई प्रोफाइल वाले निकले. पुलिस की गिरफ्त में आए पांचों शराबी अपने-अपने पद की धौंस मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों को दिखाई, हालांकि मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों के आगे शराबियों की एक न चली. पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर थाने ले आई.

यह भी पढ़ें| सीमा के भीतर रहें या नहीं तो…” – बिहार भाजपा प्रमुख ने नीतीश की पार्टी को दी चेतावनी

जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार किए गए लोगों में यूपी के सोनभद्र, छपरा, दरभंगा और पटना के निवासी शामिल हैं. इन सबों को गिरफ्तार करने के बाद गर्दनीबाग़ पुलिस अब इस बात का पता लगा रही है आखिर इनलोगों ने शराब कहां से मंगवाई थी.

बताते चलें, नीतीश सरकार समूचे राज्य में पूर्ण शराबबंदी का चाहे लाख दावा ठोंक ले, परंतु सच यह है कि आज भी लोग शराब पी रहे हैं. उन्हें शराब की डिलीवरी उनके घर पर ही हो जा रही है. वैसे राज्य की पुलिस इसे सख्ती से लागू करवाने के लिए शराब पीने और पिलाने वाले लोगों पर लगातार कार्रवाई कर रही है. लेकिन लोग हैं कि मानते नहीं हैं.

इतना ही नहीं, राज्य में नकली शराब के कारण कई लोगों को अपनी जान से हाथ भी धोना पड़ रहा है. शनिवार 15 जनवरी को ही मुखमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले से शराब पीकर 13 लोगों की मौत ही गई एवं कइयों को अपनी आंखों से हाथ धोना पड़ा है. पक्ष-विपक्ष दोनों तरफ से नीतीश कुमार के शराबबंदी कानून की किरकिरी हो रही है.

कारण चाहे जो हो, लेकिन राज्य में पूर्ण शराबबंदी तो दिख नहीं रही है. इसके विपरीत शराब की होम डिलीवरी में नाबालिक बच्चे भी संलग्न दिख रहे हैं जो शाम ढलते ही शराब की होम डिलीवरी करते दिखते हैं जिसकी भनक स्थानीय पुलिस को नहीं लग पाती. पुलिस को इस पर भी सघन व पैनी नजर रखने की जरूरत है.