प्रणब मुखर्जी के निधन पर राष्ट्रपति, पीएम, सीएम ने किया शोक व्यक्त

नई दिल्ली (TBN – the bihar now डेस्क) | पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का सोमवार को दिल्ली में सेना के अनुसंधान और रेफरल अस्पताल में निधन हो गया. वे 84 वर्ष के थे. प्रणब मुखर्जी का इस अस्पताल में मस्तिष्क की सर्जरी हुई थी. सर्जरी से पहले अस्पताल में टेस्ट के दौरान उनमें कोविड-19 संक्रमण का पता चला था. सर्जरी के बाद पूर्व राष्ट्रपति लगातार कोमा में थे तथा उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था. अंततः सोमवार को उन्होंने आखिरी सांस ली.

https://twitter.com/rashtrapatibhvn/status/1300409823679246339?s=20

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर देश विदेश से शोक संदेशों का सिलसिला लगातार जारी है. देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने शोक जाहिर करते हुए कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति, श्री प्रणब मुखर्जी के स्वर्गवास के बारे में सुनकर हृदय को आघात पहुंचा. उनका देहावसान एक युग की समाप्ति है. श्री प्रणब मुखर्जी के परिवार, मित्र-जनों और सभी देशवासियों के प्रति मैं गहन शोक-संवेदना व्यक्त करता हूँ.

https://twitter.com/narendramodi/status/1300412575641862144?s=20

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक जताया. उन्होंने दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है कि “उन्होंने हमारे राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ी है. एक विद्वान व्यक्ति उत्कृष्टता, एक विशाल राजनेता, वह राजनीतिक स्पेक्ट्रम और समाज के सभी वर्गों द्वारा प्रशंसा की गई”.

गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया. उन्होंने ट्वीट करके कहा कि “प्रणब दा का जीवन हमेशा उनकी त्रुटिहीन सेवा और हमारी मातृभूमि के लिए अमिट योगदान के लिए पोषित रहेगा. उनके निधन ने भारतीय राजनीति में एक बहुत बड़ा शून्य छोड़ दिया है. इस अपूरणीय क्षति पर उनके परिवार और अनुयायियों के साथ मेरी ईमानदारी से संवेदना है. शांति शांति शांति”.

काँग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि “बहुत दुख के साथ, राष्ट्र को हमारे पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी के दुर्भाग्यपूर्ण निधन की खबर मिली. मैं उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए देश में शामिल हुआ. शोक संतप्त परिवार और दोस्तों के प्रति मेरी गहरी संवेदना”.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा है कि प्रणव मुखर्जी प्रख्यात राजनेता, कुशल प्रशासक, प्रखर वक्ता एवं राजनीति के ऐसे अजातशत्रु थे, जिन्हें पक्ष और विपक्ष समान रूप से आदर और सम्मान देते थे. उन्होंने भारतीय राजनीति में शुचिता और नैतिक मूल्यों की लंबी लकीर खींची है. भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में प्रणव मुखर्जी जी ने वर्ष 2012 से 2017 तक देश की सेवा की. वर्ष 2019 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया. पाँच दशक के अपने शानदार राजनीतिक जीवन में उन्हें रक्षा, वित्त, विदेश, राजस्व, नौवहन, परिवहन, संचार, आर्थिक मामले, वाणिज्य और उद्योग समेत विभिन्न महत्वपूर्ण मंत्रालयों के मंत्री होने का गौरव हासिल है. उनका जाना एक युग का अंत है. अपने सौम्य और मिलनसार स्वभाव के कारण वे सर्वप्रिय थे. णव मुखर्जी जी से मेरा आत्मीय संबंध रहा है और उन्होंने कई मौकों पर मेरा मार्गदर्शन भी किया है. उनके निधन से देश की राजनीति में शून्यता की स्थिति उत्पन्न हो गयी है. उनका निधन मेरे लिये व्यक्तिगत क्षति भी है.
मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शान्ति तथा उनके परिजनों एवं प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है.

https://twitter.com/kpsharmaoli/status/1300418911834238976?s=20

उधर पड़ोसी देश नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली पूर्व राष्ट्रपतिके निधन पर शोक व्यक्त किया है. ओली कहते हैं, “उनके निधन में, नेपाल ने एक महान दोस्त खो दिया है. हम उनके सार्वजनिक जीवन की विभिन्न क्षमताओं में नेपाल-भारत संबंधों को मजबूत करने में उनके योगदान को याद करते हैं. भारत के पूर्व राष्ट्रपति के निधन की खबर से मुझे गहरा दुख हुआ है. प्रणब मुखर्जी, सरकार और भारत के लोगों के साथ-साथ शोक संतप्त परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदना”.

पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त किया और कहा कि प्रणव दा के निधन का समाचार पा कर पूरा देश शोक मे डूबा गया है. प्रणव दा का निधन पूरे राष्ट्र के लिये अपूरणीय क्षति है. उनका व्यक्तित्व शानदार था, उनके अन्दर अदभुत प्रतिभा थी. उन्हें इतिहास की गहरी जानकारी थी. उनकी याददाश्त बहुत मजबूत थी. उन्होंने देश के विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर लंबी समय तक रहकर देश की सेवा की और पदों की गरिमा को बढ़ाई. ऐसे राजनेता बहुत कम पैदा होते है. उन्हें देश सदा याद रखेगा. ईश्वर उनकी आत्मा को चिर शांति दे, देश को इस शोक को सहन करने की शक्ति दे.

पूर्वमंत्री एवं विधायक तेजप्रताप यादव, राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने भी पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उनका निधन राजनीतिक तथा सामाजिक जगत के लिये अपूरणीय क्षति है.

वहीं आरजेडी विधायक भोला यादव ने भी प्रणव दा को श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि प्रणव दा के निधन का समाचार जब राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को दी गई तो उन्होंने कहा कि प्रणव मुखर्जी के निधन के समाचार से मैं व्यक्तिगत रूप से मर्माहत एवम दुखी हूँ. देश ने अपना एक होनेहार पुत्र खो दिया है. ईश्वर उनकी आत्मा को चिर शांति दें.


Advertisements