ओमिक्रोन खतरा: भारत में मिले 2 पाज़िटिव केस, पहले संक्रमित ने चुपके से छोड़ा देश

Corona Breaking

बेंगलुरू (TBN – The Bihar Now डेस्क)| एक बेहद डराने वाली खबर सामने आ रही है जिसके अनुसार भारत में भी कोरोना के नए स्ट्रेन ओमिक्रोन की एंट्री (entry of the Omicron variant in India) हो गई है. भारत में ओमिक्रॉन वैरिएंट के दो कोविड-19 मामलों का पता चला है. इस आशय की जानकारी स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को दी. इसके साथ ही भारत दुनिया का 30वां देश बन गया जिसने वैश्विक अलार्म को ट्रिगर करने वाले कोरोनवायरस वायरस (coronavirus strain that has triggered global alarm) की रिपोर्ट की है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल (Health Ministry’s Joint Secretary Lav Agarwal ने एक समाचार ब्रीफिंग में बताया कि कर्नाटक में दोनों मामले 66 और 46 वर्ष की आयु के दो पुरुषों के साथ सामने आए हैं, उन्होंने कहा कि उनकी गोपनीयता की रक्षा के लिए उनकी पहचान का खुलासा नहीं किया जाएगा.

सूत्रों के अनुसार, जहां 66 वर्षीय व्यक्ति एक विदेशी है, जिसका दक्षिण अफ्रीका की यात्रा का इतिहास है, वहीं दूसरा बेंगलुरु में एक 46 वर्षीय डॉक्टर है. डॉक्टर ने पूरी तरह से टीकाकरण करवाया था और जिसका कोई यात्रा भी इतिहास नहीं था. डॉक्टर को 21 नवंबर को बुखार और शरीर में दर्द के लक्षण सामने आए थे.

डॉक्टर का अगले दिन कोविड परीक्षण में पाज़िटिव पाया गया जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. डॉक्टर का नमूना उसी दिन जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया था. लेकिन तीन दिन बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई. व्यापक कान्टैक्ट ट्रैसिंग के बाद कर्नाटक सरकार ने कहा कि उसके पास 13 प्रत्यक्ष कान्टैक्ट (direct) और 250 से अधिक माध्यमिक (secondary) कान्टैक्ट थे.

उन्होंने कहा कि दोनों लोगों के संपर्क में आने वाले सभी लोगों का पता लगा लिया गया है और उनका परीक्षण किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि दोनों मामले हल्के हैं और अब तक कोई गंभीर लक्षण सामने नहीं आए हैं.

अग्रवाल ने कहा, “हमें ओमिक्रोन का पता लगने से घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन जागरूकता बेहद जरूरी है. कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन करें और सभाओं से बचें.”

बेंगलुरु के उस 46 वर्षीय ओमिक्रॉन-पाज़िटिव डॉक्टर के 5 संपर्कों का कोविड टेस्ट पाज़िटिव निकले हैं. कर्नाटक सरकार के अनुसार, सभी पाज़िटिव मरीजों को अलग-थलग (isolate) कर दिया गया है और उनके नमूने जीनोम परीक्षण (genome testing) के लिए भेज दिए गए हैं.

नए COVID-19 वैरिएंट ओमिक्रोन के बारे में पहली बार (new COVID-19 variant Omicron was first reported) 25 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को सूचित किया गया था. WHO के अनुसार, ओमिक्रोन संक्रमण केस की पहली पुष्टि B.1.1.1.529 संक्रमण इस साल 9 नवंबर को एकत्र किए गए नमूने से हुआ था.

26 नवंबर को, WHO ने नए COVID-19 वैरिएंट B.1.1529 (new COVID-19 variant B.1.1.529) का नाम दिया, जिसका दक्षिण अफ्रीका में पता चला है. डब्ल्यूएचओ ने ओमाइक्रोन को ‘चिंता के प्रकार’ (variant of concern) के रूप में वर्गीकृत किया है.

कोरोना के इस नए वैरिएंट का पता चलने के बाद से दर्जनों देशों ने दक्षिणी अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगा दिए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्येयियस (Director-General of the World Health Organization, Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कहा था कि 23 देशों में नए ओमाइक्रोन कोरोनावायरस संस्करण की पुष्टि की गई है और उनकी संख्या बढ़ने की उम्मीद है.

भारत ने भी अपनी सूची में ऐसे कई देशों को जोड़ा है जहां से यात्रियों को देश में आगमन पर अतिरिक्त उपायों का पालन करना होगा, जिसमें संक्रमण के लिए आगमन के बाद परीक्षण (post-arrival testing for infection) भी शामिल है.